कौन है सीबीआई के अंतरिम निदेशक एम. नागेश्वर राव, शानदार रहा है ट्रैक रिकॉर्ड

Views : 1041  |  0 minutes read

सीबीआई के नंबर 1 और नंबर 2 के अधिकारियों में जारी जंग में रोज नए मोड़ सामने आ रहे हैं। केंद्र सरकार की दखलअंदाजी के बाद जहां सीबीआई के चीफ आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को जबरन छुट्टी पर भेज दिया गया है वहीं रातोंरात एम. नागेश्वर राव को सीबीआई का नए अंतरिम डायरेक्टर की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

कौन है एम. नागेश्वर राव?

ओडिशा कैडर से 1986 बैच के आईपीएस अधिकारी राव की कार्यशैली को लेकर वो काफी चर्चा में रहते हैं और उनकी पहचान एक तेज-तर्रार अधिकारी की रही है। तेलंगाना के वारंगल के रहने वाले राव ने ओस्मानिया यूनिवर्सिटी से अपनी पढ़ाई पूरी कर आईआईटी मद्रास पहुंचे। इसी दौरान उन्होंने सिविल सर्विस की तैयारी की। राव 2016 में CBI से जुड़े और फिलहाल सीबीआई के जॉइंट डायरेक्टर पद पर कार्यरत थे।

खनन माफियाओं का सफाया कर आए चर्चा में-

राव ने पोस्टिंग के शुरूआती दिनों में ही ओडिशा में अवैध खनन माफियाओं के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था जिसके बाद इन्हें काफी सराहना मिली थी। वहीं मणिपुर में उग्रवादियों पर लगाम कसने में राव की भूमिका अहम मानी जाती है। पश्चिम बंगाल का चिट फंड और शारदा घोटाला, नक्सलियों के खिलाफ 2008 में हुआ लालगढ़ ऑपरेशन, कंधमाल हिंसा जैसे मुख्य मामले इनके पास ही रहे।

अहम पदों पर निभाई जिम्मेदारी-

एसपी के तौर पर करियर की शुरूआत करने वाले राव ने कई अहम पदों पर सेवाएं दी है। रेलवे और कटक में क्राइम ब्रांच के एसपी, सीआरपीएफ के डीआईजी और आईजी जैसे पदों पर भी रहे हैं। ओडिशा में हुए एक रेप केस के दौरान राव ने ही पहली बार डीएनए फिंगर प्रिंट तकनीक का इस्तेमाल किया था।

सेवाओं के लिए मिल चुके हैं कई मेडल

राव को अपने शानदार ट्रैक रिकॉर्ड के लिए कई मेडल से सम्मानित किया जा चुका है। इन मेडल में राष्ट्रपति पुलिस मेडल, कर्तव्य मेडल और ओडिशा गवर्नर मेडल शामिल हैं।

COMMENT