गणित से प्रेम में दूसरे विषयों को पढ़ना ही छोड़ दिया था श्रीनिवास रामानुजन ने

Views : 4418  |  4 minutes read
Srinivasa-Ramanujan-Biography

जब भी हम अपने स्कूल के दिनों को याद करते हैं, तो गणित का जिक्र जरूर आता है। ये एक ऐसा विषय था, जिससे हम में से कुछ लोग बहुत प्यार करते थे, तो वहीं बहुत से लोगों को इसने डरा कर भी रखा था। लेकिन भारत के एक महान शख्स ऐसे भी थे, जिनका गणित के साथ इतना खास याराना था कि उनके जन्मदिन को ही पूरे देश में राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाया जाता है। जी हां, सुप्रसिद्ध भारतीय गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन की 26 अप्रैल को 101वीं पुण्यतिथि है। ऐसे में इस मौके पर जानते हैं महान शख्सियत के बारे में…

दोस्तों से किताबें उधार लेकर करते थे स्कूल की पढ़ाई

विलक्षण प्रतिभा के धनी श्रीनिवास रामानुजन के सम्मान में वर्ष 2012 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 22 दिसंबर को ‘राष्ट्रीय गणित दिवस’ घोषित किया। उनका जन्म 22 दिसम्बर, 1887 को भारत के तमिलनाडु के कोयंबटूर स्थित ईरोड नाम के गांव में हुआ था। लेकिन उनका बचपन निर्धनता व कठिनाइयों के साथ बीता। वह स्कूल की पढ़ाई भी अपने दोस्तों से किताबें उधार लेकर किया करते थे।

Srinivasa-Ramanujan

गणित के अलावा किसी सब्जेक्ट में नहीं थी दिलचस्पी

श्रीनिवास रामानुजन को गणित के अलावा अन्य विषयों में दिलचस्पी न होने के कारण परीक्षा पास करने में काफी परेशानी होती थी, लेकिन गणित में वे हमेशा 100 प्रतिशत अंक लाते थे। उन्होंने महज दस वर्ष की उम्र में प्राइमरी परीक्षा में पूरे जिले में सर्वोच्च अंक प्राप्त किया, जिसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए वो टाउन हाईस्कूल चले गए। इस दौरान उनका गणित-प्रेम इतना बढ़ गया था कि उन्होंने दूसरे विषयों को पढ़ना ही छोड़ दिया।

फेल होने के बाद बढ़ी रामानुजन की परेशानी

इसका परिणाम यह हुआ कि कक्षा 11वीं की परीक्षा में श्रीनिवास रामानुजन गणित को छोड़ बाकी सभी विषयों में फेल हो गए, जिसके कारण उनको मिलने वाली छात्रवृत्ति भी बंद हो गई। उनके परिवार की आर्थिक स्थिति पहले से ही ठीक नहीं थी। ऐसे में छात्रवृत्ति बंद होने के कारण उनके लिए कठिनाइयां और बढ़ गई। यह दौर उनके लिए काफी मुश्किलों भरा था, जिसके बाद रामानुजन ने घर की जिम्मेदारी संभाली।

Srinivasa-Ramanujan

इस तरह मिला उनकी प्रतिभा को समझने वाला

आर्थिक जरूरतों को पूरा करने के लिए उन्होनें क्लर्क की नौकरी करना शुरू किया। वहां भी वो अक्सर खाली पेज पर गणित के प्रश्न हल किया करते थे। एक दिन एक अंग्रेज की नजर इन पेजों पर पड़ी, जिसने निजी दिलचस्पी लेकर उन्हें ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हार्डी के पास भेजने का प्रबंध कर दिया। प्रोफेसर हार्डी ने उनमें छिपी प्रतिभा को पहचाना, जिसके बाद उनकी ख्याति विश्वभर में फैल गई।

दुनिया को बताया पूर्णांक लिखने के सबसे नए तरीके

इंग्लैंड में रामानुजन ने पूर्णांकों को कई तरीके से लिखने की पद्धति प्रदर्शित की। इसमें उन्होंने बताया कि किसी भी पूर्णांक को कई अंकों के जोड़ से प्रदर्शित किया जा सकता है। जैसे कि अगर 4 है तो 3 + 1, 2 + 2, 2 + 1 + 1 और 1 + 1 + 1 + 1 के जोड़ से 4 लाया जा सकता है। रामानुजन के पत्र अंग्रेजी और यूरोपीय पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए और 1918 में वह रॉयल सोसाइटी ऑफ लंदन के लिए चुने गए।

Hardy_Ramanujan

प्रोफेसर हार्डी के साथ मिल कर कई शोधपत्र प्रकाशित किए

रामानुजन ने प्रोफेसर हार्डी के साथ मिल कर कई शोधपत्र प्रकाशित किए, जिनमें से एक के लिए कैंब्रिज विश्वविद्यालय ने इन्हें बी.ए. की उपाधि भी दी। सब कुछ ठीक चल रहा था लेकिन इंग्लैंड की जलवायु और रहन-सहन की शैली रामानुजन के अनुकूल नहीं थी, जिसके कारण उनका स्वास्थ्य खराब रहने लगा। जांच के बाद पता चला की उन्हें टी.बी. था। डॉक्टरों ने उन्हें वापस भारत लौटने की सलाह दी। भारत लौटने पर भी उनके स्वास्थ्य में सुधार नहीं हुआ और उनकी हालत और खराब होती गई। धीरे-धीरे डॉक्टरों ने भी जवाब दे दिया, जिसके बाद 26 अप्रैल, 1920 को देश की इस विलक्षण प्रतिभा ने दुनिया को अलविदा कह दिया।

Read: दुनिया की 30 से ज्यादा भाषाओं पर पकड़ रखते थे भारतीय घुमक्कड़ राहुल सांकृत्यायन

COMMENT