स्पेशल: आज तक रहस्य है भारत के इस महान परमाणु वैज्ञानिक की मौत

Views : 4871  |  3 minutes read
Homi-Jehangir-Bhabha

भारत के महान वैज्ञानिक डॉक्‍टर होमी जहांगीर भाभा पूरी दुनिया में खासे मशहूर थे। 30 अक्टूबर, 1909 को मुंबई के एक समृद्ध पारसी परिवार में जन्मे होमी भाभा को भारत के परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम का जनक कहा जाता है। उन्होंने देश के परमाणु कार्यक्रम के भावी स्वरूप की इतनी मजबूत नींव रखी थी कि भारत आज विश्व के प्रमुख परमाणु संपन्न देशों में गिना जाता है। भाभा न सिर्फ महान वैज्ञानिक थे, बल्कि वह शास्त्रीय संगीत, नृत्य और चित्रकला में भी गहरी रूचि रखते थे। उन्हें भारत सरकार द्वारा ‘पद्मभूषण’ अवॉर्ड से नवाजा गया था। 24 जनवरी, 1966 को डॉ. भाभा की एक प्लेन दुर्घटना में रहस्यमयी मौत हो गई ​थी। ऐसे में डॉ. होमी जहांगीर भाभा की पुण्यतिथि के मौके पर जानते हैं उनके बारे में कुछ दिलचस्प बातें..

bhabha

टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च की स्थापना की

होमी जहांगीर भाभा ने जेआरडी टाटा की मदद से मुंबई में ‘टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च’ की स्थापना की और वर्ष 1945 में वो इसके निदेशक बने। इसके बाद वर्ष 1948 में उन्होंने भारतीय परमाणु ऊर्जा आयोग की स्थापना की और अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा मंचों पर भारत का प्रतिनिधित्व भी किया। वो होमी जहांगीर भाभा ही थे, जिन्होंने देश के आजाद होने के बाद दुनिया के विभिन्न क्षेत्रों में रह रहे भारतीय वैज्ञानिकों से भारत लौटने की अपील की थी। डॉक्टर भाभा को नोबेल पुरस्कार विजेता सर सीवी रमन भारत का ‘लियोनार्दो द विंची’ बुलाते थे।

होमी जहांगीर भाभा शांतिपूर्ण कार्यों के लिए परमाणु ऊर्जा के उपयोग के समर्थक थे। 60 के दशक में बहुत से विकसित देशों का ये तर्क था कि परमाणु ऊर्जा संपन्न होने से पहले विकासशील देशों को अन्य पहलुओं पर ध्यान देना चाहिए। जबकि डॉक्टर भाभा ने इसका दमदार तरीके से खंडन किया था और वह विकास कार्यों में परमाणु ऊर्जा के प्रयोग की वकालत करते रहे। डॉक्टर भाभा को 5 बार भौतिकी के नोबेल पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया, परन्तु विज्ञान की दुनिया का सबसे बड़ा सम्मान इस महान वैज्ञानिक को मिल नहीं पाया।

अक्टूबर 1965 में भाभा ने ऑल इंडिया रेडियो से घोषणा की थी कि अगर उन्हें छूट मिले तो भारत 18 महीनों में परमाणु बम बनाकर दिखा सकता है। उनका मानना था कि ऊर्जा, कृषि और मेडिसिन जैसे क्षेत्रों के लिए शांतिपूर्ण परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम शुरू होने चाहिए। उन्होंने पंडित नेहरू को परमाणु आयोग की स्थापना के लिए राजी किया था। होमी जहांगीर भाभा 1950 से 1966 तक परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष रहे। तब वह भारत सरकार के सचिव भी थे। कहा जाता है कि सादगी पसंद भाभा कभी अपने चपरासी को अपना ब्रीफकेस उठाने नहीं देते थे।

bhabha

आज तक बना हुआ है विमान दुर्घटना का रहस्य

साल 1966 में मुंबई से न्यूयॉर्क जा रहा एयर इंडिया का बोइंग 707 मॉन्ट ब्लां के निकट दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। जिसके चलते 24 जनवरी 1966 को डॉक्टर होमी जहांगीर भाभा की मृत्यु हो गई थी। हालांकि, इस विमान दुर्घटना का रहस्य आज तक नहीं खुल पाया है। एक न्यूज वेबसाइट ने अपनी रिपोर्ट में इसके संकेत दिए कि भाभा के प्लेन क्रैश में अमेरिकी खुफिया एजेंसी CIA का हाथ था। करीब दो साल पहले एक वेबसाइट ने वर्ष 2008 में पत्रकार ग्रेगरी डगलस और सीआईए के अधिकारी रॉबर्ट टी क्राओली के बीच हुई कथित बातचीत को फिर से पेश किया।

पंडित भीमसेन जोशी: जिनकी गायकी ने बताया कि रात के घुमड़ते अंधेरे में भी जादू होता है

इस बातचीत में सीआईए अधिकारी रॉबर्ट के हवाले से कहा गया है, ‘हमारे सामने समस्या थी, भारत ने 60 के दशक में आगे बढ़ते हुए परमाणु बम पर काम शुरू कर दिया था।’ रॉबर्ट ने इस दौरान रूस का भी जिक्र किया, जो कथित तौर पर भारत की मदद कर रहा था। इसके बाद होमी जहांगीर भाभा का जिक्र आता है। सीआईए अधिकारी ने कहा, ‘मुझ पर भरोसा करो, वह खतरनाक थे। उनके साथ एक दुर्भाग्यपूर्ण हादसा हुआ। वह परेशानी को और बढ़ाने के लिए वियना की उड़ान में थे, तभी उनके बोइंग 707 के कार्गो में रखे बम में विस्फोट हो गया।’

 

COMMENT