श्याम बेनेगल: बॉलीवुड का वो डायरेक्टर जिसने हिंदी सिनेमा की बदली तस्वीर…

Views : 1415  |  0 minutes read

हिंदी सिनेमा में श्याम बेनेगल का एक बहुत बड़ा नाम है। जिन्होंने अपनी बेहतरीन निर्देशन शैली के दम पर फिल्म इंडस्ट्री में अपनी एक खास जगह बनाई। फिल्म इंडस्ट्री में नसीरुद्दीन शाह, शबाना आज़मी, स्मिता पाटिल, ओम पुरी, अमरीश पुरी, ईला अरुण जैसे कई मंझे कलाकार फिल्म इंडस्ट्री में श्याम बेनेगल की देन है। श्याम बेनेगल का जन्म 14 दिसंबर, 1934 को सिकंदराबाद के त्रिमूलगिरी में हुआ था। जन्मदिन के इस खास मौके पर आइए एक नजर डाले उनकी जिंदगी से जुड़ी कुछ दिलचस्प किस्सों पर।

विज्ञापन इंडस्ट्री से की शुरुआत

श्याम बेनेगल ने अपने कॅरियर की शुरुआत एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री से की। उन्होंने मुंबई के लिंटास विज्ञापन एजेंसी में कॉपीराइटर के रूप में काम किया। अपने विज्ञापन कॅरियर में श्याम ने करीब 900 से अधिक डॉक्यूमेंट्री और विज्ञापन फिल्मों का निर्देशन किया। श्याम ने फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (FTII), पुणे में पढ़ाया और दो बार इसके अध्यक्ष भी रहे।

फिल्म इंडस्ट्री की ओर…

आखिरकार श्याम बेनेगल ने 1973 में फिल्म ‘अंकुर’ से फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखा। अपनी पहली ही फिल्म से श्याम फिल्म इंडस्ट्री में शोहरत पाने में कामयाब रहे। इसके बाद उन्होंने फिल्म ‘निशांत’ (1975), ‘मंथन’ (1976) और ‘भूमिका’ (1977) जैसी फिल्मों का निर्देशन किया। जिनमें अमरीश पुरी शबाना आजमी, नसीरुद्दीन शाह, ओम पुरी, स्मिता पाटिल, कुलभूषण खरबंदा जैसे प्रतिभाशाली कलाकारों ने काम किया।

श्याम बेनेगल की वो फिल्म जिससे जुड़े लाखों किसान

बात उस दौर की थी जब देश में कांग्रेस के शासन के दौरान देश में इमरजेंसी लगा दी गई थी। विवादित माहौल के बीच श्याम बेनेगल ने अपनी आगामी फिल्म की स्क्रिप्ट पूरी की जो श्वेत क्रांति पर आधारित थी। फिल्म के प्री प्रोडक्शन का काम पूरा हो चुका था। बस कमी थी तो प्रोड्यूसर की। कोई भी इस फिल्म में पैसा लगाने के लिए तैयार नहीं हो रहा था। ऐसे में दुग्ध क्रांति के जनक कहे जाने वाले वर्गीज कुरियन से मिले और अपनी परेशानी साझा की।

कुरियन ने उन्हें अमूल से जुड़े 5 लाख किसानो की मदद लेने का सुझाव दिया। और फिर क्या था श्याम बेनेगल की यह फिल्म देश की पहली ऐसी फिल्म साबित हुई जिसमें देश के किसानों का पैसा लगा। फिल्म के निर्माण के लिए किसानों ने 2-2 रुपये का सहयोग दिया तब जाकर फिल्म का निर्माण हो सका।

फिल्म का नाम रखा गया मंथन। जो किसानों और पशुपालकों के संघर्ष की कहानी बयां करती है। फिल्म में स्मिता पाटिल, ओमपुरी, गिरीश कर्नाड, नसीरुद्दीन शाह जैसे कलाकार थे। इस फिल्म का निर्देशन श्याम बेनेगल ने किया था। फिल्म रिलीज हुई और दो राष्ट्रीय पुरस्कार अपने नाम किए।

सत्यजीर रे से हुए खासे प्रभावित

श्याम बेनेगल सत्यजीत रे से काफी प्रभावित हुए। ये कहना गलत नहीं होगा कि सत्यजीत रे की फिल्म ‘पाथेर पांचाली’ की निर्देशन शैली को देखकर ही उनमें निर्देशन की दुनिया में आने का चस्का चढ़ा। यही वजह है कि सत्यजीत रे के बाद हिंदी सिनेमा में श्याम बेनेगल उनकी विरासत को संभाला। श्याम की फिल्में सामाजिक और राजनीतिक अभिव्यक्ति के लिए जानी जाती हैं।

छोटे पर्दे पर किया बड़ा काम

फिल्मों से दूरी बनाने के बाद बेनेगल ने ‘यात्रा’, ‘कथा सागर’ दूरदर्शन के लिए ‘भारत एक खोज’, भारत सरकार के एक टेलीविजन मीडिया आउटलेट सहित कई टेलीविजन धारावाहिकों का निर्माण किया। साल 1991 में उन्होंने फिल्म ‘अंतरनाद’ से सिने पर्दे पर वापसी की।

26 वर्षों के भीतर, उन्होंने 21 फीचर फिल्मों, 1,500 विज्ञापन फिल्मों और 45 डॉक्यूमेंट्रीज का निर्देशन किया सिनेमा में अपने बेहतरीन योगदान के चलते उन्हें साल 1976 में ‘पद्म श्री’, 1991 में ‘पद्म भूषण’ से सम्मानित किया। साल 2005 में दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

COMMENT