जयंती: मात्र 22 साल की उम्र में आज़ादी के लिए शहीद हो गए थे राजगुरु

Views : 3517  |  3 minutes read
Shivaram-Rajguru-Biography

भारत को ब्रिटिश हुकूमत के अत्याचारों और शोषण से मुक्ति दिलाने के लिए अनेक क्रांतिकारी शहीद हुए थे। ऐसे ही क्रांतिकारियों में से एक थे युवा और जोशीले राजगुरु। उनका पूरा नाम शिवराम राजगुरु था। उन्होंने देश की आजादी के लिए मात्र 22 साल की कम उम्र में हंसते-हंसते शहीद भगत सिंह और सुखदेव के साथ फांसी पर चढ़कर अपनी कुर्बानी दे दी थी। आज 24 अगस्त को राजगुरु की 112वीं जयंती हैं। ऐसे में जानते हैं उनके बारे में…

प्रारंभिक जीवन

शहीद राजगुरु का जन्म 24 अगस्त, 1908 को महाराष्ट्र के पुणे जिले के खेड़ (भीमा नदी के किनारे स्थित) में हुआ था। उनकी माता पार्वती देवी और पिता हरिनारायण राजगुरु थे। उनका पूरा नाम शिवराम हरि राजगुरु था। जब वह छह साल के थे तब उनके पिता का देहांत हो गया और परिवार की जिम्मेदारी उनके बड़े भाई दिनकर पर आ गई। उनकी प्राथमिक शिक्षा खेड़ में हुई और बाद में पुणे के न्यू इंग्लिश हाई स्कूल में अध्ययन किया। वह 12 साल की उम्र में वाराणसी में अध्ययन के लिए गए और संस्कृत में शिक्षा प्राप्त की। राजगुरु बचपन से ही निडर थे। राजगुरु पर लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक के विचारों का काफी प्रभाव पड़ा।

देश की आजादी के लिए संघर्ष

पढ़ाई के समय ही राजगुरु क्रांतिकारी गतिविधियों में शामिल होने लगे। वह चंद्रशेखर आजाद से काफी प्रभावित हुए और उन्होंने हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन की सदस्यता ग्रहण कर ली। इस संगठन का मकसद था कि भारत किसी भी तरह से ब्रिटिश शासन से मुक्त हो। इस संगठन के सदस्यों का मानना था कि महात्मा गांधी द्वारा देश की आजादी का अहिंसात्मक सविनय अवज्ञा की अपेक्षा अंग्रेजों के अत्याचारों के खिलाफ सशस्त्र क्रांति से देश को जल्द आजाद करवाया जा सकता है। राजगुरु को यही पर निशानेबाजी का प्रशिक्षण दिया गया और वह निशानेबाजी में माहिर हो गए। उनकी मुलाकात बाद में भगत सिंह और सुखदेव से हुई।

अक्टूबर, 1928 में साइमन कमीशन का विरोध कर रहे भारतीयों पर ब्रिटिश पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया था। इस विरोध प्रदर्शन के दौरान पंजाब में आंदोलनकारियों का नेतृत्व कर रहे लाला लाजपत राय लाठियों के वार से बुरी तरह जख्मी हो गए। जिससे उनकी मृत्यु हो गई। इस पर संगठन के सदस्यों ने इस घटना को अंजाम देने वाले ब्रिटिश पुलिस अधिकारी जेपी सॉन्डर्स की हत्या करने की योजना बनाई। 19 दिसंबर, 1928 को राजगुरु, शहीद-ए-आजम भगत सिंह और सुखदेव के साथ मिलकर लाहौर में सहायक पुलिस अधीक्षक पद पर तैनात अंग्रेज़ अधिकारी जे.पी. सॉन्डर्स को गोली मार कर हत्या कर दी।

इसके बाद भी राजगुरु शांत नहीं बैठे उन्होंने 28 सितंबर, 1929 को एक गवर्नर की हत्या करने की कोशिश की। लेकिन वह असफल हो गए और अगले दिन उन्हें पुणे में गिरफ़्तार कर लिया गया था। राजगुरु पर ‘लाहौर षड़यंत्र’ केस में शामिल होने का मुक़दमा भी चलाया गया। अदालत में इन क्रांतिकारियों ने स्वीकार किया था कि वे पंजाब में आज़ादी की लड़ाई के एक बड़े नायक लाला लाजपत राय की मौत का बदला लेना चाहते थे।

फांसी का दिन

द ट्रिब्यून के मुख्य पेज पर भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को 24 मार्च 1931 को फांसी की सजा देने की घोषणा छपी थी। लेकिन इन क्रांतिकारियों को फांसी के विरोध में व्यापक स्तर पर आंदोलन हुए। इसे देखते हुए ब्रिटिश सरकार ने उन तीनों क्रांतिकारियों को एक दिन पहले 23 मार्च 1931 को फांसी दे दी गई।

मदनलाल ढींगरा: क्रांतिकारी जिसे परिवार वालों ने अंग्रेजों का विरोध करने पर घर से निकाल दिया

फांसी के बाद इन तीनों शहीदों का पंजाब के फिरोजपुर जिले में सतलज नदी के किनारे हुसैनीवाला में अंतिम संस्कार किया गया। फांसी के समय शिवराम राजगुरु केवल 22 वर्ष के थे। उनकी स्मृति में भारत सरकार ने 22 मार्च, 2013 को डाक टिकट जारी किया।

COMMENT