बर्थडे स्पेशल: वसुंधरा राजे का ऐसा रहा राजघराने से मुख्यमंत्री बनने तक का सफ़र

Views : 2509  |  3 minutes read
Vasundhara-Raje-BJP

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सीनियर लीडर एवं राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का जन्म अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के दिन आता है। वर्ष 2020 में वे अपना 67वां जन्मदिन मना रही हैं। उनका जन्म 8 मार्च, 1953 को ग्वालियर के राजघराने में हुआ। शाही खानदान से ताल्लुक रखने वाली राजे का बचपन मुंबई में बीता। ग्वालियर राजघराने के महाराजा जीवाजी राव सिंधिया उनके पिता और विजया राजे सिंधिया उनकी मां थीं।

राजनीति में अपना रुतबा रखने वाली राजे का राजनीतिक कॅरियर कई तरह के उतार-चढ़ाव के साथ गुजरा, जहां उन्हें प्रदेश की पहली महिला मुख्यमंत्री होने का गौरव प्राप्त हुआ, वहीं विपक्षी खेमे में वो ‘महारानी’ के नाम से भी जानी गईं। ऐसे में पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के जन्मदिन के मौके पर जानते हैं उनके बारे में कुछ ख़ास बातें..

Vasundhara-Raje

शादीशुदा ज़िंदगी नहीं चढ़ सकी परवान

वसुंधरा राजे की शादी करीब 20 साल की उम्र में धौलपुर राजघराने के महाराजा हेमंत सिंह से हुई थी। शादी के कुछ ही साल बाद इकलौते बेटे दुष्यंत सिंह का जन्म हुआ। बेटे के जन्म के बाद ही दोनों की शादीशुदा ज़िंदगी में खींचतान शुरू हो गई थीं। आपसी खटपट बढ़ने लगी तो दोनों एक-दूसरे से अलग हो गए। राजे को राजस्थान से लगाव शादी के बाद हुआ था।

1984 में शुरू हुआ राजनीतिक जीवन

वर्ष 1984 में भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल होने के साथ ही वसुंधरा राजे के राजनीतिक जीवन की शुरुआत हुई। साल 1985 में अपने ही ससुराल की धौलपुर विधानसभा सीट से एमएलए का चुनाव लड़कर पहली बार विधायक बनी।  इसके बाद वर्ष 1987 में राजस्थान प्रदेश भाजपा की उपाध्यक्ष बनाई गईं।

बारां-झालावाड़ सीट से 5 बार पहुंची लोकसभा

साल 1989 में वसुंधरा राजे पहली बार बारां-झालावाड़ संसदीय क्षेत्र से लोकसभा का चुनाव जीतकर संसद पहुंची और केंद्र की राजनीति की शुरुआत की। उसके बाद वे लगातार पांच बार वर्ष 1991, 1996, 1998 और 1999 के आम चुनाव में जीती और क्षेत्र की जनता की आवाज़ को लोकसभा तक पहुंचाया। राजे के आने से पहले बारां-झालावाड़ लोकसभा क्षेत्र काफ़ी पिछड़ा हुआ माना जाता था।

Vasundhara-Raje

वाजपेयी सरकार में केंद्र मंत्रिमंडल में मिली जगह

वर्ष 1999 में अटलबिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में वसुंधरा राजे को मंत्रिमंडल जगह मिली। राजे ने सबसे पहले विदेश राज्यमंत्री का कार्यभार संभाला। इसके अलावा वे लोकसभा में कई कमेटियों की सदस्य भी रहीं। भैरोंसिंह शेखावत के राजस्थान की राजनीति से जाने के बाद राजे ने राजस्थान में भाजपा राज्य इकाई का नेतृत्व किया। इस दौरान उन्होंने पूरे राजस्थान में विधानसभा वार यात्रा कर पार्टी को मजबूत करने का काम किया और लोगों की बीच अपनी पहचान बनाने में कामयाब रही।

Vasundhara-Raje

राजस्थान की पहली महिला सीएम बनकर रचा इतिहास

वर्ष 2003 के राजस्थान विधानसभ चुनाव में बीजेपी को मिले भारी बहुमत के बाद पार्टी हाईकमान ने उन्हें प्रदेश की कमान सौंपी। इसी के साथ राजे को राजस्थान की पहली महिला मुख्यमंत्री होने का गौरव भी हासिल हुआ। उन्होंने पूरे 5 साल सरकार चलाई, लेकिन पार्टी को लगातार दूसरी बार सत्ता में लाने में कामयाब नहीं रहीं।

स्पेशल: मरते-मरते जावेद अख्तर से अपनी उधारी ले ही गए थे साहिर लुधियानवी

इसके बाद साल 2013 का विधानसभा चुनाव वसुंधरा राजे के नेतृत्व में लड़ा गया, जिसमें बीजेपी को प्रचंड बहुमत मिला और दौ सौ में से 160 से ज्यादा सीटें हासिल कीं। राजस्थान की जनता ने राजे में विश्वास दिखाया और इस तरह उन्हें दूसरी बार प्रदेश की मुख्यमंत्री बनने का मौका मिला। वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव में राजे सरकार सत्ता में वापसी करने में सफ़ल नहीं रहीं। वसुंधरा राजे वर्तमान में झालरापाटन सीट से विधायक हैं। साल 2019 में उनके इकलौते बेटे दुष्यंत सिंह बारां-झालावाड़ लोकसभा सीट से लगातार चौथी बार सांसद चुने गए।

Vasundhara-Raje

COMMENT