टीम इंडिया में फिर से एंट्री करने का आखिरी रास्ता भी युवराज के लिए बंद

Views : 1097  |  0 minutes read

विश्वकप-2019 से पहले टीम के लिए आखिरी बार विश्वकप खेलने का सपना देखने वाले ‘सिक्सर किंग’ युवराज ने अपने पैरों पर खुद ही कुल्हाड़ी मार ली है। युवराज सिंह ने इस साल रणजी ट्रॉफी सीजन 2018—19 में अपनी घरेलू टीम पंजाब की ओर से नहीं खेलना का फैसला लिया है। लंबे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे युवराज के पास रणजी ट्रॉफी खेलकर टीम इंडिया में वापसी का इससे अच्छा कोई मौका नहीं मिलता लेकिन अब उन्होनें ये फैसला लेकर अपनी वापसी के लिए आखिरी रास्ता भी बंद कर लिया है। हालांकि 2019 विश्वकप से पहले युवराज के पास आईपीएल के रूप में एक मौका जरूर हो सकता है लेकिन रणजी ट्रॉफी टीम इंडिया में एंट्री के लिए सबसे बड़ा दरवाजा है, जिसमें खेलकर युवराज यदि पंजाब के लिए अच्छी परफॉर्मेंस देते तो चयनकर्ता उनकी ओर देख सकते थे। इससे पहले युवराज विजय हजारे ट्रॉफी में जरूर पंजाब की ओर से खेले और संतोषजनक प्रदर्शन भी किया।

शायद अब आईपीएल में भी ना चुने जाएं
इस साल आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब की ओर से खेले युवी की बल्लेबाजी ने काफी ज्यादा निराश किया लिहाजा उन्हें बाद में टीम की प्लेइंग इलेवन में लगातार जगह नहीं मिल पाई। 2019 में युवराज को किसी फ्रैंचाइजी द्वारा खरीदा जाना मुश्किल लग रहा है क्योंकि आईपीएल में युवराज ने कभी अच्छा प्रदर्शन नहीं किया और वो यहां फ्लॉप ही साबित रहे हैं। इस बार युवराज का आईपीएल खेलना भी मुश्किल लग रहा है।

इंग्लैंड में ली है कड़ी ट्रेनिंग
हाल ही युवराज ने इंग्लैंड जाकर वहां के मरीन कमांडोज के साथ कड़ी ट्रेनिंग ली है। इन दिनों युवराज अपनी फिटनेस पर पूरा ध्यान देने में लगे हैं लेकिन वो मैच ही नहीं खेलेंगे तो फिट रहने का भी उनका क्या मतलब रह जाता है।

COMMENT