मिहिर सेन दुनिया का पहला व्यक्ति जिसने सातों समुद्र तैरकर किए पार

मिहिर सेन भारत के ही नहीं बल्कि एशिया के पहले ऐसे तैराक थे, जिन्होंने वर्ष 1958 में इंग्लिश चैनल तैरकर पार किया, आज 11 जून को उनकी 22वीं पुण्यतिथि है। यही नहीं उन्होंने ‘साल्ट वाटर’ तैराकी में 5 महत्त्वपूर्ण रिकॉर्ड बनाए थे। मिहिर कलकत्ता हाईकोर्ट में वकील थे, लेकिन उन्हें लोग एक रिकॉर्डधारी तैराक के रूप में जानते हैं।

मिहिर सेन का जन्म 16 नवम्बर, 1930 को पश्चिम बंगाल के पुरुलिया स्थान पर हुआ था। इनके पिता डॉ. रमेश सेन गुप्ता कटक में फिजीशियन थे और माता का नाम लीलावती था। उनकी माता के प्रयासों के कारण ही वे आठ वर्ष की अवस्था में कटक के बेहतर स्कूल में पढ़ पाए थे। मिहिर ने कानून से स्नातक की डिग्री ओडिशा के भुवनेश्वर स्थित उत्कल विश्वविद्यालय से प्राप्त की।

वह वकालत के लिए इंग्लैंड जाना चाहते थे, लेकिन आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी। राज्य सरकार के सहयोग से वह इंग्लैंड जाकर आगे की पढ़ाई करने गए।

इंग्लिश चैनल पार करने वाले पहले एशियाई बने

मिहिर सेन जब इंग्लैंड से वकालत कर रहे थे, उस दौरान उन्होंने एक महिला तैराक के बारे में पढ़ा जिसने इंग्लिश चैनल तैरकर पार किया था। वह उस महिला से इतना प्रभावित हुए कि उन्होंने भी कुछ ऐसा ही करने की ठान लिया।

मिहिर ने शुरूआत में इंग्लिश चैनल को तैरकर पार करने के कुछ असफल प्रयास भी किए। आखिरकार उन्होंने 27 सितम्बर, 1958 को इंग्लिश चैनल तैरकर पार करने में सफलता पाई। वह ऐसा करने वाले पहले भारतीय बने, साथ ही पहले एशियाई भी। उन्होंने डोवर से कलाइस तक इंग्लिश चैनल को पार करने में 14 घंटे 45 मिनट का समय लिया। इसके बाद मिहिर सेन ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और नए कीर्तिमान रचने के लिए आगे निकल पड़े।

मिहिर का अपना अगला लक्ष्य श्रीलंका के तलाईमन्नार से भारत के धनुष्कोटी तक तैराकी करने का रखा। अपने इस लक्ष्य में भी वे पीछे नहीं हटे और इसे 25 घंटे 44 मिनट में पूरा किया। जहां से मिहिर ने तैराकी शुरू की, वो पाल्क स्ट्रेट में अनेक जहरीले सांपों और शार्क मौजूद थे। इस दौरान भारतीय नौसेना ने उनकी सहायता की।

यह भी पढ़ें- रामप्रसाद बिस्मिल क्रांतिकारी के साथ लेखक, शायर और साहित्यकार भी थे

जिब्राल्टर को तैरकर पार करने वाले पहले एशियाई

इसके बाद मिहिर ने 24 अगस्त, 1966 को एक नया रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज किया। जिसमें उन्होंने 8 घंटे 1 मिनट में जिब्राल्टर डार-ई-डेनियल को तैरकर पार किया। यह चैनल स्पेन और मोरक्को के बीच है। जिब्राल्टर को तैरकर पार करने वाले मिहिर सेन पहले एशियाई थे।

उन्होंने 12 सितंबर, 1966 को डारडेनेल्स को तैरकर पार किया। इसे पार करने वाले वह विश्व के पहले व्यक्ति थे।

पनामा नहर को तैरकर किया पार

मिहिर ने तैराकी में एक ओर रिकॉर्ड पनामा नहर को तैरकर पार करते हुए बनाया, जिसे उन्होंने 29 अक्टूबर, 1966 को शुरू किया। इस नहर को उन्होंने लंबाई में पार किया था, जिस कारण उन्होंने इसे दो स्टेज में पार किया। 29 अक्टूबर को शुरू करके पनामा की तैराकी की, उन्होंने 31 अक्टूबर को इसे पूरा किया। पनामा नहर को उन्होंने 34 घंटे 15 मिनट में पार किया था।

सात समुद्र पार करने वाले पहले व्यक्ति

मिहिर ने कुल मिलाकर 600 किलोमीटर की समुद्री तैराकी की। उन्होंने एक ही कलेण्डर वर्ष में 6 मील लम्बी दूरी की तैराकी करके नया कीर्तिमान स्थापित किया। वह दुनिया के पहले ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने पाँच महाद्वीपों के सातों समुद्रों को तैरकर पार किया था। उनके नाम गिनीज बुक में कई विश्व रिकॉर्ड दर्ज है।

मिहिर सेन को इन्हीं उपलब्धियों के कारण भारत सरकार की ओर से 1959 में उन्हें ‘पद्‌मश्री’ पुरस्कार प्रदान किया गया और वर्ष 1967 में उन्हें ‘पद्‌मभूषण’ पुरस्कार भी प्रदान किया गया।

मिहिर एक अतुलनीय तैराक थे, जिन्होंने अपनी हिम्मत और मेहनत के दम पर इतनी बड़ी तैराकी का जोखिम उठाया था। वह ‘एक्सप्लोरर्स क्लब ऑफ इंडिया’ के अध्यक्ष थे।

मिहिर सेन को जीवन के अंतिम दिनों में अल्जाइमर्स बीमारी हो जाने के कारण वह अपनी याद्‌दाश्त खो बैठे। इस कारण उनके अंतिम दिन बड़े कष्टपूर्ण व्यतीत हुए और इस महान तैराक का 11 जून, 1997 को कोलकाता में 67 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

COMMENT

Chaltapurza.com, एक ऐसा न्यूज़ पोर्टल जो सबसे पहले, सबसे सटीक की भागमभाग के बीच कुछ अलग पढ़ने का चस्का रखने वालों का पूरा खयाल रखता है। हम देश-विदेश से लेकर राजनीतिक हलचल, कारोबार से लेकर हर खेल तो लाइफस्टाइल, सेहत, रिश्ते, रोचक इतिहास, टेक ज्ञान की सभी हटके खबरों पर पैनी नजर रखने की कोशिश करते हैं। इसके साथ ही आपसे जुड़ी हर बात पर हमारी “चलता ओपिनियन” है तो जिंदगी की कशमकश को समझने के लिए ‘लव यू जिंदगी’ भी कुछ अलग है। हमारी टीम का उद्देश्य आप तक अच्छी और सही खबरें पहुंचाना है। सबसे अच्छी बात यह है कि हमारे इस प्रयास को निरंतर आप लोगों का प्यार मिल रहा है…।

Copyright © 2018 Chalta Purza, All rights Reserved.