माइकल फैराडे के विद्युत चुम्बकीय प्रेरण सिद्धांत पर ही बनती है बिजली

3 min. read

माइकल फैराडे महान वैज्ञानिक थे जिन्होंने इलेक्ट्रोमैग्नेटिज्म और इलेक्ट्रोकैमिस्ट्री के अध्ययन में उल्लेखनीय योगदान दिया था। वह भौतिक विज्ञानी और रसायनविद थे। उन्होंने विद्युत चुम्बकीय प्रेरण, डायमेग्नेटिज्म और इलेक्ट्रोलाइसिस जैसी महत्त्वपूर्ण सिद्धांतों की खोज की थी। माइकल की इन थ्योरियों की बदौलत ट्रांसफार्मर और जनरेटर चल रहे हैं।

जीवन परिचय

माइकल फैराडे का जन्म 22 सितंबर, 1791 को लंदन के न्यूंगटन बट्स नामक शहर में हुआ, जो साउथवार्क का हिस्सा है। बचपन से ही उन्हें भौतिक और रसायन में रुचि थी, इसलिए वह इनसे संबंधित पुस्तकें ही पढ़ते थे।

वर्ष 1812 में उन्हें रॉयल इंस्टीट्यूशन और रॉयल सोसाइटी के प्रसिद्ध रसायन विज्ञानी सर हंफ्री डेवी और सिटी फिलोसोफिकल सोयायटी के संस्थापक जॉन टैटम के व्याख्यान में भाग लेने का मौका मिला। हंफ्री डेवी के कुछ व्याख्यानों पर फैराडे ने टिप्पणी करके उन्हें भेजा जिससे वह काफी प्रभावित हुए। इस पर हम्फ्री ने फैराडे को बतौर सहायक नियुक्त कर लिया। उनके साथ फैराडे पूरी लगन और मेहनत के साथ जुट गया। वर्ष 1833 में रॉयल इंस्टीट्यूशन में रसायन के लेक्चरर बन गए।

फैराडे ने किया डायनेमो का आविष्कार

माइकल फैराडे का प्रमुख आविष्कार विद्युत चुम्बकीय प्रेरण था। वर्ष 1820 में हैंड्स ओर्स्टेड ने बताया कि विद्युत धारा से चुम्बकीय क्षेत्र उत्पन्न किया जा सकता है। इससे उन्हें विचार आया कि अगर विद्युत धारा के प्रवाह से चुम्बकीय प्रभाव उत्पन्न हो सकता है तो चुम्बकीय प्रभाव से विद्युत धारा उत्पन्न की जा सकती है।

बाद में इसी आधार प्रयोग द्वारा उन्होंने वर्ष 1831 में विद्युत चुम्बकीय प्रेरण का सिद्धांत दिया था। इसी सिद्धांत के आधार पर ही आज पूरी दुनिया में विद्युत का उत्पादन किया जा रहा है। ट्रांसफार्मर भी फैराडे की थ्योरी पर कार्य करता है। उन्होंने इसी के सिद्धांत के आधार पर डायनमो का आविष्कार किया था। परावैद्युतांक, चुंबकीय क्षेत्र में रेखा ध्रुवित प्रकाश का घुमाव आदि विषयों में भी फैराडे ने योगदान किया।

बेंजीन की खोज

रसायन विज्ञान के क्षेत्र में भी उन्होंने उल्लेखनीय खोजें की और बेंजीन की खोज का श्रेय भी माइकल फैराडे को जाता है। फैराडे ने विद्युत से संबंधित कई नियमों का प्रतिपादन किया जिन्हें फैराडे के नियम कहा जाता है। उन्होंने क्लोरीन गैस का द्रवीकरण करने में सफलता पाई थी। उन्होंने कई पुस्तकें लिखीं, जिनमें सबसे उपयोगी ‘विद्युत में प्रायोगिक गवेषणाएँ’ (Experimental Researches in Electricity) है।

निधन

मानव जीवन का सुलभ बनाने वाली बिजली के उत्पादन में योगदान देने वाले माइकल फैराडे का 25 अगस्त, 1867 में निधन हो गया। सम्पूर्ण मानव फैराडे की महान खोजों के प्रति हमेशा ऋणी रहेगा।

COMMENT

Chaltapurza.com, एक ऐसा न्यूज़ पोर्टल जो सबसे पहले, सबसे सटीक की भागमभाग के बीच कुछ अलग पढ़ने का चस्का रखने वालों का पूरा खयाल रखता है। हम देश-विदेश से लेकर राजनीतिक हलचल, कारोबार से लेकर हर खेल तो लाइफस्टाइल, सेहत, रिश्ते, रोचक इतिहास, टेक ज्ञान की सभी हटके खबरों पर पैनी नजर रखने की कोशिश करते हैं। इसके साथ ही आपसे जुड़ी हर बात पर हमारी “चलता ओपिनियन” है तो जिंदगी की कशमकश को समझने के लिए ‘लव यू जिंदगी’ भी कुछ अलग है। हमारी टीम का उद्देश्य आप तक अच्छी और सही खबरें पहुंचाना है। सबसे अच्छी बात यह है कि हमारे इस प्रयास को निरंतर आप लोगों का प्यार मिल रहा है…।

Copyright © 2018 Chalta Purza, All rights Reserved.