विशेष: मन्ना डे ने बतौर प्लेबैक सिंगर 4000 से अधिक गीतों को दी थी अपनी आवाज़

Views : 2437  |  4 minutes read
Manna-Dey-Biography

बॉलीवुड में मन्ना डे गुजरे जमाने के उन प्लेबैक सिंगर्स में से एक माने जाते रहे हैं, जिन्होंने अपनी कमाल की गायकी से हिंदी गानों को एक अलग पहचान दिलाई। वर्ष 2013 में 24 अक्टूबर को 94 साल की उम्र में इस महान गायक का निधन हो गया था। मन्ना डे ने कई भाषाओं में हजारों गानों में अपनी मखमली आवाज का जादू बिखेरा। उन्होंने हिंदी, बंगाली समेत कई भाषाओं में 4000 से ज्यादा गाने गाए।

कोलकाता में हुआ था डे का जन्म

मन्ना डे का जन्म 1 मई, 1919 को कोलकाता में महामाया और पूर्ण चंद्र डे के घर में हुआ था। उन्होंने फिल्म ‘तमन्ना’ से अपने कॅरियर की शुरुआत की थी। डे ने अपने गायन कॅरियर में ‘हंसने की चाह ने इतना मुझे रुलाया है’, ‘जिंदगी कैसी है पहेली हाय’, ‘लागा चुनरी में दाग’, ‘फूल गेंदवा ना मारो’, ‘कौन आया मेरे मन के द्वारे’, ‘तू प्यार का सागर है’, ‘ऐ मेरी ज़ोहरा ज़बीं’, ‘आजा सनम मधुर चांदनी में हम’….जैसे कई सदाबहार गाने गाए, जिन्हें आज भी हर उम्र के लोग गुनगुनाना पसंद करते हैं। ऐसे में पुण्यतिथि के मौके पर सुनिए उनके कुछ बेहतरीन नगमें..

ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे…

यह गाना साल 1975 में आई फिल्म ‘शोले’ का है। इस गाने को मन्ना डे और किशोर कुमार ने बेहद खूबसूरती से गाया है। दोस्ती की मिसाल देने वाले इस गाने की लोकप्रियता आज भी बरकरार है।

जिंदगी कैसी है पहेली…

यह गाना साल 1971 में आई फिल्म ‘आनंद’ का है, जिसमें राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन ने स्क्रीन साझा की थी। यह गाना आज भी लोगों की जुबान पर छाया हुआ है।

एक चतुर नार…

यह गाना साल 1968 में आई फिल्म ‘पड़ोसन’ से है। इस गाने को मन्ना डे ने किशोर कुमार के साथ मिलकर आवाज दी है।

प्यार हुआ इकरार हुआ है…

फिल्म ‘श्री 420’ के इस गाने में मन्ना डे और लता मंगेशकर ने आवाज दी थी। फिल्म के इस गाने को न​रगिस और राज कपूर पर फिल्माया गया था।

ऐ मेरी ज़ोहरा ज़बीं…

यह गाना साल 1965 में आई फिल्म ‘वक्त’ का है, जो बॉलीवुड के बेहतरीन गानों में से एक है।

COMMENT