शास्त्री पुण्यतिथि: जय जवान, जय किसान…पढ़े देश के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के अनमोल विचार

Views : 2192  |  5 min read

आजाद भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की 11 जनवरी को 54वीं पुण्यतिथि है। यह एक ऐसा नाम है जिन्होंने देश को आजादी दिलाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया था। बहुत ही कम लोग इस बात से वाकिफ है कि 2 अक्टूबर गांधी जयंती के दिन शास्त्री जी की जयंती भी आती है।

शास्त्री जी का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को मुगलसराय में हुआ था। साल 1920 में लाल बहादुर शास्त्री भारत की स्वतंत्रता लड़ाई में शामिल हो गए। शास्त्री गांधीवादी विचारधारा के समर्थक थे। यही वजह थी कि वे आजादी की लड़ाई के दौरान गांधी के असहयोग आंदोलन का हिस्सा बने। आजादी की लड़ाई के दौरान देश के युवाओं को जगाने के लिए शास्त्री ने जय जवान, जय किसान का नारा दिया था। 11 जनवरी 1966 को प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए उनकी बड़े रहस्यमयी तरीके से मौत हो गई। शास्त्री जी की जयंती पर चलिए एक नजर डाले उनके सुविचारों पर।

“जय जवान जय किसान”

 

”हमारी ताकत और मजबूती के लिए सबसे जरूरी काम है लोगो में एकता स्थापित करना।”

 

”कानून का सम्मान किया जाना चाहिए ताकि हमारे लोकतंत्र की बुनियादी संरचना बरक़रार रहे और हमारा लोकतंत्र भी मजबूत बने।”

 

”देश की तरक्की के लिए हमे आपस में लड़ने के बजाए गरीबी, बीमारी और अज्ञानता से लड़ना होगा।”

”हम खुद के लिए ही नही बल्कि पूरे विश्व की शांति, विकास और कल्याण में विश्वास रखते हैं।”

 

”यदि हम लगातार लड़ते रहेंगे तो हमारी ही जनता को लगातार भारी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा, हमे लड़ने के बजाय गरीबी, बीमारी और अशिक्षा से लड़ना चाहिए।”

”देश के प्रति निष्ठा सभी निष्ठाओं से पहले आती है. और यह पूर्ण निष्ठा है क्योंकि इसमें कोई प्रतीक्षा नहीं कर सकता कि बदले में उसे क्या मिलता है।”

 

”यदि कोई भी व्यक्ति हमारे देश में अछूत कहा जाता है तो भारत को अपना सर शर्म से झुकाना पड़ेगा।”

 

“यदि कोई भी व्यक्ति हमारे देश में अछूत कहा जाता है तो भारत को अपना सर शर्म से झुकाना पड़ेगा”।

 

”जो शासन करते हैं उन्‍हें देखना चाहिए कि लोग प्रशासन पर किस तरह प्रतिक्रिया करते हैं, अंतत: जनता ही मुखिया होती है।”

 

COMMENT