सुभाष चंद्र बोस पुण्यतिथि: नेताजी और उनकी भारतीय राष्ट्रीय सेना के दिलचस्प तथ्य और अनदेखी तस्वीरें

Views : 3177  |  3 minutes read

आज़ाद हिंद फौज के जनक और महान स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस की आज 75वीं डेथ एनिवर्सरी है। 18 अगस्त, 1945 को उनका एक हवाई हादसे में निधन हो गया था। हालांकि, इन दावों पर हमेशा से ही सवाल उठते रहे हैं। ‘नेताजी’ के नाम से लोकप्रिय सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी, 1897 को कटक, ओडिशा में हुआ था।

नेताजी के जन्मदिवस के ख़ास अवसर पर देश के विभिन्न हिस्सों में कई समारोह आयोजित किए जाते हैं। साल 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बोस और भारतीय राष्ट्रीय सेना पर एक संग्रहालय का उद्घाटन किया था।

बोस एंड द इंडियन नेशनल आर्मी संग्रहालय में सुभाष चंद्र बोस और आईएनए से संबंधित विभिन्न कलाकृतियों को शोकेस किया गया है।

कलाकृतियों में नेताओं द्वारा उपयोग में ली जाने वाली तलवार, लकड़ी की कुर्सी, पदक, बैज, वर्दी और आईएनए से संबंधित उपयोग की गई अन्य कलाकृतियों को शामिल किया है।

आज़ाद हिंद फौज या भारतीय राष्ट्रीय सेना का गठन 1942 में द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान भारतीय राष्ट्रवादियों ने ब्रिटिश शासन से भारतीय स्वतंत्रता को सुरक्षित रखने के लिए किया था।

बोस ने 21 अक्टूबर, 1943 को देश की पहली स्वतंत्र सरकार – ‘आज़ाद हिंद सरकार’ के गठन की घोषणा की थी।नेताजी और उनकी भारतीय राष्ट्रीय सेना के बारे में कुछ रोचक तथ्य इस प्रकार हैं:

सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी, 1897 को कटक में हुआ था, जो बंगाल प्रांत के उड़ीसा डिवीजन का एक हिस्सा था। अपनी स्कूली शिक्षा समाप्त करने के बाद, उन्होंने कुछ समय प्रेसीडेंसी कॉलेज में अध्ययन किया। बाद में उन्होंने स्कॉटिश चर्च कॉलेज, कलकत्ता विश्वविद्यालय से दर्शनशास्त्र का अध्ययन किया और फिर ब्रिटेन में अध्ययन करने चले गए।

सुभाष चंद्र बोस ने प्रतिष्ठित भारतीय सिविल सेवा परीक्षा (ICS) को उत्तीर्ण किया। हालाँकि, उन्होंने जल्द ही पद छोड़ दिया क्योंकि वह ब्रिटिश सरकार के अधीन काम नहीं करना चाहते थे।

वे स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हो गए और कांग्रेस पार्टी के सदस्य बन गए। हालाँकि, महात्मा गांधी और जवाहर लाल नेहरू जैसे प्रमुख हस्तियों के साथ उनके वैचारिक मतभेद थे। कांग्रेस में एक कट्टरपंथी नेता नेताजी को 1938 में पार्टी का अध्यक्ष बनाया गया लेकिन गांधी और पार्टी के आलाकमान के बीच मतभेद के बाद उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया। वह महात्मा गांधी के अहिंसा के तरीकों से अलग थे और देश में औपनिवेशिक शासकों के खिलाफ युद्ध छेड़ना चाहते थे।

नेताजी ने 1941 में कोलकाता में अपने पैतृक घर से ‘महान पलायन’ किया। वे ब्रिटिश सरकार द्वारा गिरफ्तार भी किये गये। जिसके बाद उन्होंने सोवियत संघ और फिर जर्मनी में अपना रास्ता बनाया।

आज़ाद हिंद फ़ौज को पहली बार 1942 में सिंगापुर में कैप्टन-जनरल मोहन सिंह द्वारा स्थापित किया गया था, लेकिन बाद में भंग कर दिया गया था। दक्षिण पूर्व एशिया में रहने वाले भारतीयों की मदद से, बोस ने INA को पुनर्जीवित किया।

21 अक्टूबर, 1943 को, उन्होंने INA के सुप्रीम कमान की कमान संभाली और आज़ाद हिंद सरकार की घोषणा की। एक महान वक्ता नेताजी ने प्रसिद्ध नारा तुम मुझे खून दो, और मैं तुम्हें स्वतंत्रता दूंगा! के साथ देश को अंग्रेजों से आजाद करने का बिगुल बजाया। यह भाषण बर्मा में 1944 में भारतीय राष्ट्रीय सेना के सदस्यों को दिया गया था।

सुभाष चंद्र बोस: सिविल सेवा की नौकरी छोड़ देश की आजादी में लगा दिया अपना सारा जीवन

COMMENT