कस्तूरबा गांधी: वो महिला जिसे सिर्फ़ महात्मा गांधी की पत्नी के रूप में याद नहीं किया जाना चाहिए!

Views : 3848  |  3 minutes read
kasturba-gandhi-and-mahatma-gandhi

इतिहास ने अक्सर कस्तूरबा गांधी को उनके पति मोहनदास करमचंद गांधी की परछाई की तरह ही बयां किया है। स्वतंत्रता संग्राम में महात्मा गांधी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है, लेकिन देश की भलाई और संघर्ष के दिनों में कस्तूरबा की भूमिका को भी नकारा नहीं जा सकता है। कस्तूरबा को पढ़ना और लिखना नहीं सिखाया गया था, लेकिन युवा अवस्था में ही उन्होंने पारिवारिक बंधनों को छोड़कर अपना सारा ध्यान व पूरा जोर देश की आज़ादी के लिए लगा दिया था। 22 फ़रवरी को कस्तूरबा गांधी की 76वीं पुण्यतिथि है। इस मौके पर जानते हैं उनके बारे में वो अनसुनी बातें, जो पब्लिक में कम ही सुनने को मिलती है..

kasturba-gandhi

13 साल की उम्र में हो गया था विवाह

कस्तूरबा गांधी का जन्म 11 अप्रैल, 1869 को वर्तमान गुजरात राज्य के पोरबंदर में एक आर्थिक रूप से मजबूत और प्रतिष्ठित परिवार में हुआ था। उनका मात्र 13 साल की उम्र में मोहनदास करमचंद यानि महात्मा गांधी से वर्ष 1883 में विवाह हो गया था। जैसा कि गांधी की आत्मकथा ‘द स्टोरी ऑफ़ माय एक्सपेरिमेंट्स विद ट्रूथ’ में बताया गया है, जिसे दो भागों में पब्लिश किया गया था। कस्तूरबा ने अपने शादी के पहले कुछ साल एक रूढ़िवादी परिवार की औरत की तरह ही गुजारे। इस दौरान महात्मा गांधी काम के सिलसिले में परिवार से दूर रहे और कस्तूरबा ने घर पर रहकर ही चार बच्चों को सार-संभाल की।

kasturba-mahatma-gandhi-Family

शिक्षा के लिए जिज्ञासु थीं अनपढ़ कस्तूरबा

कस्तूरबा गांधी ने अपने जीवन में कभी औपचारिक शिक्षा प्राप्त नहीं की, लेकिन वे ज़िंदगी भर शिक्षा के लिए जिज्ञासु रही और चीजों को तेजी से समझ लेती थीं। कस्तूरबा की एक किताब में लिखा है कि महात्मा गांधी ने उन्हें एक बार कहा था कि जब तक वह अपने बच्चे जैसी लिखावट में सुधार नहीं करती, तब तक वह उसे नोटबुक नहीं देंगे। इसके बाद उन्होंने अपनी पूरी लाइफ़ एक नोटबुक में लिखने से इंकार कर दिया।

महात्मा गांधी ने भी कई बार अपनी आत्मकथा में पत्नी कस्तूरबा का जिक्र किया। उन्होंने लिखा कि जब भी वे अपनी इच्छाओं और मर्जी को कस्तूरबा पर चलाते थे, हर बार कस्तूरबा मानती नहीं थीं। उन्होंने लिखा, ‘मेरे पहले के अनुभव के अनुसार, वह यानि कस्तूरबा बहुत ही अड़ियल थी। मेरे सारे दबाव के बावजूद वह अपनी इच्छानुसार काम करती। इससे हमारे बीच कम या लंबे समय के लिए मनमुटाव चलता रहता था। लेकिन जैसे-जैसे मेरे पब्लिक जीवन का विस्तार हुआ, मेरी पत्नी खुश रहने लगी और जान-बूझकर मेरे काम में खुद भी खो गई।’

kasturba-gandhi-and-mahatma-gandhi-young

जीवन में लंबे समय तक अकेलेपन का सामना किया

कस्तूरबा गांधी ने अपने जीवन में लंबे समय तक अकेलेपन का सामना किया। उन्होंने ऐसा तब सबसे ज्यादा महसूस किया जब महात्मा गांधी ने दक्षिण अफ्रीका में राजनीति और न्याय के लिए लड़ाई लड़ीं। इस दौरान कस्तूरबा ने अपनी लीडरशिप टैलेंट को सुधारा। वे अपने फैसले अच्छे से किया करती थीं। उन्होंने अपनी छवि का इस्तेमाल अच्छी चीजों के लिए किया। जैसा कि महात्मा गांधी ने ‘भारत छोड़ो’ जैसे आंदोलनों की शुरुआत की और कस्तूरबा इन आंदोलनों में एक फ्रंट-लाइनर की भूमिका में थीं। महात्मा गांधी को हिरासत में लिए जाने पर वे अक्सर आंदोलनों की अगुवाई करतीं।

एक बार कस्तूरबा ने भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान देश को संबोधित करते हुए एक अच्छा और प्रभावी भाषण लिखा था। जिसके कुछ वाक्य हैं, ‘भारत की महिलाओं को अपना उत्साह साबित करना होगा। जाति या पंथ की परवाह किए बग़ैर वे सभी इस संघर्ष में शामिल हों। सत्य और अहिंसा हमारे पहरेदार होने चाहिए।’ कस्तूरबा गांधी अक्सर जनता को संबोधित करती और उन्हें देश की स्वतंत्रता के लिए लड़ने के लिए प्रोत्साहित करती थीं। उन्होंने ही ‘साबरमती आश्रम’ शुरू किया था, जिसके लिए मुख्य रूप से महात्मा गांधी को जिम्मेदार ठहराया गया। वर्ष 1906 में जब गांधी ने ‘शुद्धता’ का संकल्प लिया, तो उन्होंने महात्मा गांधी की पसंद को पहचाना और इसको कबूल किया। कस्तूरबा के अपने आदर्श थे, लेकिन कभी भी अपने बच्चों सहित अन्य लोगों को उनकी इच्छा के अनुसार काम कराने या झुकाने का उन्होंने प्रयास नहीं किया।

kasturba-with-mahatma-gandhi

दक्षिण अफ्रीका में तीन माह जेल में बंद रही थी ‘बा’

सामाजिक स्वतंत्रता के लिए कस्तूरबा गांधी की लड़ाई भारतीय स्वतंत्रता के संघर्ष से बहुत पहले शुरू हुई, महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका में रहने के दौरान उन्होंने इसकी शुरूआत की। साल 1913 में दक्षिण अफ्रीका में ऐसा कानून पास हुआ जिससे ईसाई मत के अनुसार किए गए और विवाह विभाग के अधिकारी के यहां दर्ज किए गए विवाह के अतिरिक्त अन्य विवाहों की मान्यता अग्राह्य (ग्रहण के अयोग्य) की गई थी।

kasturba-gandhi-

दूसरे शब्दों में हिंदू, मुसलमान, पारसी आदि लोगों के विवाह अवैध करार दिए गए और ऐसी विवाहित स्त्रियों की स्थिति पत्नी की न होकर रखैल सरीखी बन गई। इसके कानून के ​विरोध में कस्तूरबा ने कुछ अन्य महिलाओं के साथ आंदोलन किया, जिसके लिए उन्हें तीन म​हिलाओं के साथ 3 महीने की जेल की सज़ा दी गई। फलाहार के कारण कस्तूरबा को तीन महीने जेल में आधे पेट भोजन पर रहना पड़ा। जब वे जेल से छूटीं तो उनका शरीर ठठरी (हड्डियों का ढांचा, कंकाल) मात्र रह गया था।

यतीन्द्र मोहन सेनगुप्त: ‘देशप्रिय’ के नाम से प्रसिद्ध स्वंतत्रता सेनानी, जो कलकत्ता के मेयर चुने गए

कस्तूरबा गांधी की ‘असहयोग’ और ‘सविनय अवज्ञा आंदोलन’ में सक्रिय उपस्थिति थी।वे अपनी ज्यादा उम्र के बावजूद जनता को अंग्रेजों के ख़िलाफ़ अहिंसक आंदोलन में ले गईं। आखिरी बार उन्हें भारत छोड़ा आंदोलन में उनकी सक्रियता के लिए गिरफ्तार किया गया था। पुलिस द्वारा गलत व्यवहार के कारण उनके शरीर पर काफ़ी तनाव पड़ा। कस्तूरबा गांधी ने 22 फ़रवरी, 1944 को इस दुनिया से अलविदा कह दिया था यानि आज़ादी से तीन साल से पहले ही। भारत में ‘बा’ से नाम से विख्यात कस्तूरबा अपने आप में एक बड़ी शख्सियत थीं। उन्हें सिर्फ़ महात्मा गांधी की पत्नी भर कहना इतिहास और सच्चाई से मुंह मोड़ने जैसा होगा।

 

COMMENT