“जब तक खुदकी सीता का हरण नहीं होता कोई आदमी राम नहीं बनता..” पढ़िए जिम्मी शेरगिल के दमदार डायलॉग्स

Views : 2387  |  0 minutes read

हिंदी सिनेमा में अभिनेता जिम्मी शेरगिल को उनके बेहतरीन अभिनय के लिए जाना जाता है। जिम्मी 3 दिसंबर को अपना 49वां जन्मदिन मना रहे हैं। जिम्मी का जन्म 3 दिसंबर 1970 में हुआ था। उनके पिता सत्यजीत सिंह शेरगिल एक पेंटर है वहीं उनकी पैतृक चाची अमृता शेरगिल एक जानी मानी भारतीय चित्रकार थीं। जिम्मी पंजाबी यूनिवर्सिटी, पटियाला से पढ़ाई की है। शेरगिल ने अपने अभिनय पारी की शुरुआत 1996 मेें आई फिल्म ‘माचिस’ से शुरू किया था। जिसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। जिम्मी ने बॉलीवुड में कई दमदार किरदारों को पर्दे पर साकार किया है। फिल्मों में उनके बोले गए संवाद आज भी दर्शकों के मुंह पर रटे हुए हैं। जन्मदिन के इस खास मौके पर जिम्मी के जानदार डायलॉग्स पर डालें एक नजर।

1.साला ऑरिजनल भी यही रखेंगे और डुप्लीकेट भी यही रखेंगे…(तनु वेड्स मनु रिटर्न्स)

2.हमें अभी तक घोड़ी पर चढ़ना नसीब नहीं हुआ, ये साला घोड़ी पे ही घूम रहा है तब से…(तनु वेड्स मनु रिटर्न्स)

3.हमारा इतिहास है और हम कल भी इतिहास बनाएंगे.(साहेब, बीवी और गैंगस्टर रिटर्न्स)

4.आपको पता है मर्द ज्यादा गालियां क्यों देते हैं क्योंकि वो रोते कम हैं…(साहेब, बीवी और गैंगस्टर रिटर्न्स)

5.जब तक खुद की सीता का हरण नहीं होता तब तक कोई राम नहीं होता, परेशानियों से निकलकर आए हैं… (फेमस)

6.हां हा…फिर से हैरान हो चुके हैं हम कि एक बार फिर से कटा है हमारा… (तनु वेड्स मनु रिटर्न्स)

7.तुम साला मियां बीवी जिंदगी झंड कर दी हो हमारी…(तनु वेड्स मनु रिटर्न्स)

8.तुम्हे देखकर बदतमीजी करने का क्यों जी चाहता है… (साहेब बीवी और गैंगस्टर)

9.हम तुम्हारी जान लेंगे और बहुत शान से लेंगे… (साहेब बीवी और गैंगस्टर)

10.जो देश के लिए लड़ते हैं,उनकी मौत का काउनडाउन उनकी पहली सांस के साथ शुरू हो जाता है। (साहेब बीवी और गैंगस्टर्स)

11. इन आंखो में गौर से देख ना तो इनमें मरने का गम है ना ही मौत का खौफ सिर्फ गर्व है…(बैंग बैंग)

14.बहुत सस्ती हो चुकी हो तुम, तुम्हे देने के लिए मेरे पास चिल्लर भी नहीं है…(साहेब बीवी और गैंगस्टर रिटर्न्स)

COMMENT