बर्थडे स्पेशल: श्रेया घोषाल ने महज़ 4 साल की उम्र में ही शुरू कर दिया था गायन

Views : 2985  |  3 minutes read
Shreya-Ghoshal-Singer

जब भी हमारे कानों में फिल्म ‘देवदास’ का गाना ‘बैरी पिया’ या फिल्म ‘भूल-भुलैया’ का ‘मेरे ढोलना’ बजता है तो आंखों के सामने प्यारी सी मुस्कान और दिल को सुकून देने वाली एक आवाज़ का एहसास होता है। जी हां, हम बात कर रहे हैं बॉलीवुड की मशहूर सिंगर श्रेया घोषाल की, जिन्होंने महज़ चार साल की उम्र से गायन शुरू कर दिया था। वह 12 मार्च को अपना 36वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रही हैं। ऐसे में श्रेया घोषाल के जन्मदिन के ख़ास मौके पर जानते हैं उनके बारे में कुछ दिलचस्प बातें..

Singer-Shreya-Ghoshal-

बंगाल में जन्मी और राजस्थान में बीता बचपन

सुप्रसिद्ध भारतीय गायिका श्रेया घोषाल का जन्म पश्चिम बंगाल राज्य के ब्रह्मपुर में 12 मार्च, 1984 को हुआ। उन्होंने बहुत कम उम्र में हर तरह की परेशानियों को मात देकर खुद अपनी कामयाबी की कहानी लिखीं। उन्हें गायकी की शुरुआती शिक्षा उनके घर से मिली, जहां उनकी मां शर्मिष्ठा घोषाल ने मात्र 4 साल की उम्र में ही श्रेया को सिंगिंग सिखाना शुरू कर दिया था।

श्रेया के ​पिता विश्वजीत घोषाल भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र, रावतभाटा में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के पद कार्यरत थे, इसलिए उनका बचपन राजस्थान के रावतभाटा में बीता। मां से गायकी और संगीत की शुरुआती एबीसीडी सीखने के बाद श्रेया को माता-पिता ने शास्त्रीय संगीत की शिक्षा लेने पास ही कोटा शहर में संगीतज्ञ महेशचंद्र शर्मा के पास भेज दिया। कुछ ही समय में शर्मा की शिक्षा और श्रेया की मेहनत का रंग दिखने लगा।

सिंगिंग रियलिटी शो ‘सा रे गा मा’ ने बदली ज़िंदगी

श्रेया घोषाल ने वर्ष 2000 में ज़ी-टीवी के सिंगिंग रियलिटी शो ‘सा रे गा मा’ में हिस्सा लिया और विजेता बनकर बाहर निकलीं। टेलीविजन शो के दौरान श्रेया को सुप्रसिद्ध गायक सोनू निगम, कल्याणजी जैसे लोगों के सामने परफॉर्म करने का मौका मिला। श्रेया की आवाज़ सुन कल्याणजी ने श्रेया को मुंबई लाने के लिए कहा। श्रेया मुंबई पहुंची और 18 महीने वहां रहकर आगे की शास्त्रीय संगीत की तालीम ली।

‘सा रे गा मा’ के अगले सीजन में एक बार फिर श्रेया ने हिस्सा लिया। इस बार फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली ने उनकी आवाज सुनी और मंत्रमुग्ध हो गए। भंसाली ने मन तो उसी समय बना लिया था और फ़िर साल 2002 में रिलीज़ हुई अपनी फिल्म ‘देवदास’ के लिए श्रेया को गाने का ऑफर दिया। श्रेया घोषाल ने इस्माइल दरबार के साथ इस फिल्म में कुल 5 गाने गाए थे।

Shreya-Ghoshal-Singer

बॉलीवुड फिल्म में प्लेबैके सिंगर के तौर पर डेब्यू के बाद श्रेया की आंधी चल चुकी थी, जिसने कभी रुकने का नाम नहीं लिया। यह श्रेया की मिश्री सी मीठी आवाज़ का ही जादू था कि वह आगे चलकर सुप्रसिद्ध गायिका अलका याज्ञनिक, सुनिधि चौहान, साधना सरगम और कविता कृष्णमूर्ति जैसे सिंगर्स के बराबर गिनी जाने लगीं। फिल्म ‘देवदास’ के गाने ‘बैरी पिया’ के लिए श्रेया घोषाल को ‘फिल्मफेयर अवॉर्ड’ भी मिला।

बचपन के दोस्त से की शादी, यूएस में मनाया जाता है ‘श्रेया घोषाल डे’

अगर श्रेया घोषाल के निजी जीवन की बात करें तो उन्होंने वर्ष 2015 में 5 फ़रवरी को बंगाली रीति-रिवाज से बचपन के दोस्त शिलादित्य मुखोपाध्याय से शादी की। शादी करने से पहले ये दोनों करीब 10 साल की लंबी रिलेशनशिप में रहे थे। श्रेया की मखमली आवाज़ से भरी गायकी के हिंदुस्तानी ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी लाखों लोग दीवाने हैं। एक ख़ास बात यह है कि उनके नाम पर आज भी अमेरिका के ‘ओहियो’ प्रांत में हर साल 26 जून को ‘श्रेया घोषाल डे’ मनाया जाता है।

पुण्यतिथि विशेष: पहली महिला शिक्षिका सावित्रीबाई फुले अंग्रेजी शासन को मानती थीं बेहतर

Shreya-Ghoshal-Singer-

COMMENT