विशेष: योगी आदित्यनाथ को गुरू अवैद्यनाथ ने राजनीति छोड़ बनाया था अपना वारिस, आज करोड़ों लोग करते हैं पसंद

Views : 6124  |  4 minutes read
Yogi-Adityanath-Biography

देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ आज 49 साल के हो गए हैं। योगी आज देश की राजनीति में किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। बहुत कम उम्र में सीढ़ी दर सीढ़ी उन्होंने जो मुकाम हासिल किए जिनकी बदौलत आज वो भाजपा के एक मजबूत सिपाही माने जाते हैं।

1998 में महज 26 साल की उम्र में पहली बार गोरखपुर सीट जीतकर लोकसभा पहुंचे जिसके बाद लगातार 5 बार वहीं से चुने गए। योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के गोरखनाथ मठ के महंत और हिंदू युवा वाहिनी के कर्ताधर्ता है। आज उनके जन्मदिन पर आइए जानते हैं उनते बारे में कुछ खासे बातें…

Yogi-Adityanath-

असली नाम नहीं है योगी आदित्यनाथ

5 जून 1972 को उत्तराखंड के एक राजपूत परिवार में जन्मे आदित्यनाथ का मूल नाम अजय सिंह बिष्ट है। गांव के ही एक स्थानीय स्कूल में पढ़ाई पूरी कर गढ़वाल विश्विद्यालय से गणित में बीएससी किया। अपने कॉलेज के दिनों में ही छात्र संगठन एबीवीपी से जुड़े।

Yogi-Adityanath

आज उत्तरप्रदेश में है योगी का दबदबा

कॉलेज के दिनों में ही गोरखनाथ मंदिर के महंत अवैद्यनाथ से उनका संपर्क हुआ जिसके बाद उन्होंने वहां से दीक्षा ली और योगी बने। आदित्यनाथ के गुरू महंत अवैद्यनाथ भी पहले राजनीति में थे लेकिन जब 1998 में उन्होंने राजनीति छोड़ी तो योगी आदित्यनाथ को अपना वारिस बनाया। वारिस बनने के बाद योगी ने महंत और राजनीति दोनों को एक साथ बखूबी संभाला है।

Yogi-Adityanath-

मार्च 2017 में बतौर सीएम संभाली यूपी की कमान

उत्तरप्रदेश में विधानसभा चुनावों में भाजपा को बहुमत मिला जिसके बाद 19 मार्च 2017 को उत्तर प्रदेश के बीजेपी विधायक दल ने योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री के लिए चुना। मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी ने यूपी की सबसे बड़ी समस्या गुंडागर्दी पर नकेल कसने के लिए कई कड़े कदम उठाए।

COMMENT