मशहूर उपन्यासकार आशापूर्णा देवी को चोरी-चुपके प्रकाशित करानी पड़ी थी अपनी पहली कविता

Views : 5821  |  4 minutes read
Ashapurna-Devi-Biography

मशहूर बंगाली उपन्यासकार और कवयित्री आशापूर्णा देवी की 13 जुलाई को 26वीं पुण्यतिथि है। उन्हें वर्ष 1976 में ‘ज्ञानपीठ पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया था। आशापूर्णा को जबलपुर, रवीन्द्र भारती, बर्दवान और जादवपुर विश्वविद्यालयों द्वारा डी. लिट की उपाधि से सम्मानित किया गया था। इसके अलावा उन्हें उपन्यासकार और लघु कथाकार के रूप में योगदान के लिए साहित्य अकादमी द्वारा वर्ष 1994 में सर्वोच्च सम्मान ‘साहित्य अकादमी फैलोशिप’ से सम्मानित किया गया। उन्होंने स्त्रियों के समान अधिकार के लिए संघर्ष को अपनी कहानियों में प्रमुखता से जगह दीं। ऐसे में इस खास मौके पर जानते हैं उनके जीवन से जुड़ी कई अहम बातें…

Ashapurna-Devi

आशापूर्णा देवी का जीवन परिचय

आशापूर्णा देवी का जन्म 8 जनवरी, 1909 को बंगाल प्रांत स्थित उत्तरी कलकत्ता में हुआ था। उनके पिता का नाम हरेंद्रनाथ गुप्त था, जो एक कलाकार थे। वहीं, उनकी माता सरोला सुंदरी थी, जो एक शिक्षित परिवार से आती थीं। आशापूर्णा का बचपन वृंदावन बसु गली में बीता, जहां पर परंपरागत और रूढ़िवादी परिवार रहते थे जो आपस में रिश्तेदार भी थे। वहां पर उनकी दादी की चलती थी। वह पुराने रीति-रिवाजों और रूढ़िवादी आदर्शों की कट्टर समर्थक थी। यही नहीं घर की लड़कियों को स्कूल जाना मना था। घर पर लड़कों के लिए शिक्षक पढ़ाने आते थे।

जब आशापूर्णा देवी बच्ची थी, तब अपने भाइयों के पढ़ने के दौरान वह भी उसे सुनती थी। इस प्रकार उन्होंने अपनी आरंभिक शिक्षा ग्रहण की। बाद में उनके पिता अपने परिवार के साथ दूसरी जगह चले गए। जहां पर उनकी पत्नी और बेटियों को स्वतंत्र माहौल मिला। उन्हें पुस्तकें पढ़ने का भी मौका मिला। हालांकि, आशापूर्णा के पास कोई औपचारिक शिक्षा नहीं थी, लेकिन वह स्व-शिक्षित थीं। जिस अवधि में आशापूर्णा को उठाया गया वह सामाजिक और राजनीतिक रूप से बेचैन था, राष्ट्रवादी आंदोलन और जागरण का समय था।

बचपन में अपनी बहनों के साथ कविताएं लिखती थी आशापूर्णा

आशापूर्णा बचपन में अपनी बहनों के साथ कविताएं लिखती थी। उन्होंने एक कविता ‘बाइरेर डाक’ को ‘शिशु साथी’ के संपादक राजकुमार चक्रवर्ती को वर्ष 1922 में चोरी-चुपके प्रकाशित करने के लिए दी। इसके बाद संपादक ने उनसे ओर कविता और कहानियां लिखने का अनुरोध किया। यही से उनका साहित्यिक लेखन शुरू हो गया था। वर्ष 1976 में आशापूर्णा देवी को ‘प्रथम प्रतिश्रुति’ के लिए भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

उन्होंने शुरुआत में बच्चों के लिए लिखना आरंभ किया। उनकी पहली बालोपयोगी पुस्तक ‘छोटे ठाकुरदास की काशी यात्रा’ थी, जो वर्ष 1938 में प्रकाशित हुईं। वर्ष 1937 में आशापूर्णा ने पहली बार वयस्कों के लिए ‘पत्नी और प्रेयसी’ कहानी लिखीं। उनका पहला उपन्यास ‘प्रेम और प्रयोजन’ था, जो वर्ष 1944 में प्रकाशित हुआ। आशापूर्णा देवी का ज्यादातर लेखन रूढ़ीवादी समाज में गहरी जड़ें जमाए बैठी लिंग-आधारित भेदभाव की भावना एवं संकीर्णतापूर्ण दृष्टिकोण से उत्पन्न असमानता और अन्याय के विरुद्ध एक जोश-भरा विरोध था।

Ashapurna-Devi-Novelist

आशापूर्णा की तीन प्रमुख कृतियां स्त्रियों के अनंत संघर्ष पर

आशापूर्णा देवी की कहानियां स्त्रियों पर किए गए उत्पीड़न को उधेड़ती और एक नई सामाजिक व्यवस्था का निर्माण करने की अपील करती हैं। हालांकि, वह पाश्चात्य शैली के आधुनिक सैद्धांतिक नारीवाद का समर्थन नहीं करती। उनकी तीन प्रमुख कृतियां प्रथम ‘प्रतिश्रुति’, ‘सुवर्णलता’ और ‘कबुल कथा’ समान अधिकार प्राप्त करने के लिए​ स्त्रियों के अनंत संघर्ष की कहानी है।

आशापूर्णा देवी का निधन

प्रसिद्ध उपन्यासकार और कवयित्री आशापूर्णा देवी का निधन वर्ष 1995 में 13 जुलाई को हुआ।

Read Also: मशहूर उपन्यासकार दुर्गा प्रसाद खत्री ने दो पत्रिकाओं का भी किया था सम्पादन

COMMENT