कभी भाई को खेलते देखने स्टेडियम पहुंची थी, आज टीम इंडिया की युवराज मानी जाती हैं दीप्ति शर्मा

Views : 3215  |  04 minutes read
Cricketer-Deepti-Sharma-Biography

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की बेहतरीन ऑलराउंडर दीप्ति शर्मा आज अपना 23वां जन्मदिन मना रही हैं। उत्तर प्रदेश राज्य के सहारनपुर जिले की रहने वाली दीप्ति का जन्म 24 अगस्त, 1997 को आगरा में हुआ था। उनके पिता भगवान शर्मा रेलवे के रिटायर्ड चीफ बुकिंग सुपरवाइजर हैं, वहीं उनकी मां सुशीला शर्मा एक प्राथमिक स्कूल में प्राचार्य हैं। दीप्ति अपने सात भाई-बहनों में सबसे छोटी हैं। पूर्व भारतीय खिलाड़ी युवराज सिंह की पर्सनालिटी से मैच के कारण उन्हें वुमन्स टीम की युवराज माना जाता है। आज उनके बर्थडे के अवसर पर जानते हैं दीप्ति शर्मा के बारे में दिलचस्प बातें..

chaltapurza.com

9 साल की उम्र में हो गया था क्रिकेट से प्यार

दीप्ति शर्मा को मात्र 9 साल की उम्र में ही क्रिकेट के प्रति ख़ास लगाव हो गया था। इस दौरान वह अपने पिता से भाई सुमित शर्मा के साथ ग्राउंड जाने की विनती करती थी। उनके बड़े भाई सुमित भी क्रिकेटर हैं, जो स्टेट लेवल तक खेल चुके हैं। उन्होंने ही फिर दीप्ति को क्रिकेट की बारीकियां भी सिखाईं। जब वह 10 साल की थीं, तब एक दिन अपने भाई सुमित के साथ उन्हें खेलते देखने स्टेडियम पहुंच गई थी। उसी दिन एक सीनियर महिला क्रिकेटर भी वहां ट्रेनिंग देने के लिए आई हुई थीं, दीप्ति वहीं बैठकर उन्हें प्रैक्टिस करते देख रही थी।

इसी दौरान एक बार गेंद दीप्ति के पास आ गई, उन्होंने बॉल को उठाकर स्टंप पर थ्रो कर दिया, उनका थ्रो बिल्कुल सही लगा। सीनियर क्रिकेटर ने दीप्ति का थ्रो देखकर उनसे फिर से ऐसा ही करने के लिए कहा। उनका दूसरा थ्रो भी बिल्कुल सटीक लगा। इसके बाद उस महिला क्रिकेटर ने दीप्ति के भाई से कहा था कि इसे क्रिकेट की प्रैक्टिस कराओ, यह लड़की एक दिन जरूर भारत के लिए खेलेगी।

chaltapurza.com

इसलिए युवराज सिंह कहा जाता है दीप्ति को

दीप्ति शर्मा भारतीय क्रिकेट टीम की सबसे अच्छी ऑलराउंडर में से एक हैं। वह बेहतरीन बल्लेबाज होने के साथ-साथ शानदार गेंदबाज भी हैं। दीप्ति उसी नंबर पर बैटिंग करने आती हैं, जिस नंबर पर कभी पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह आया करते ​थे। इसके अलावा उनकी युवराज की तरह ही एग्रेसिव बैटिंग शैली भी है। इसी वजह से उन्हें वुमन टीम का युवराज सिंह भी कहा जाता है। दीप्ति लेफ्ट-राइट का बेहतरीन कॉम्बिनेशन हैं। वह बाएं हाथ से बैटिंग करती है और गेंदबाजी के लिए दाएं हाथ का इस्तेमाल करती हैं। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के कारण दीप्ति 3 बार 10वीं क्लास की परीक्षा नहीं दे सकीं।

chaltapurza.com
17 साल की उम्र में टीम इंडिया में बना ली थी जगह

दीप्ति शर्मा ने अपने बेहतरीन खेल की बदौलत मात्र 17 साल की उम्र में टीम इंडिया में जगह बना ली थी। वुमन्स क्रिकेट वर्ल्ड कप में शानदार प्रदर्शन करते हुए दीप्ति ने खुद को बेहतरीन ऑलराउंडर साबित कर दिया था। इस टूर्नामेंट में उन्होंने 216 रन बनाने के अलावा 12 विकेट भी झटके थे। इसके अलावा दीप्ति शर्मा के नाम एकदिवसीय महिला क्रिकेट में दूसरा सबसे बड़ा स्कोर है। उन्होंने आयरलैंड के ख़िलाफ़ 188 रन बनाकर यह रिकॉर्ड बनाया था। यह अब तक किसी भी भारतीय महिला खिलाड़ी का एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे बड़ा निजी स्कोर भी है।

Read More: 11 बार के विश्व विजेता उसैन बोल्ट के पास हैं ये लग्जरी कारें

23 वर्षीय युवा ऑलराउंडर दीप्ति शर्मा ने भारत के लिए अब तक 54 वनडे मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 38.03 के औसत से 1417 रन बनाए हैं और 64 विकेट लिए हैं। वनडे में उनका सर्वाधिक स्कोर 188 रन हैं। अगर टी-20 इंटरनेशनल की बात करें तो दीप्ति ने अब तक 48 मैच खेलते हुए 423 रन बनाए हैं और 53 विकेट भी अपने नाम दर्ज करवाए हैं। इस फॉर्मेट में उनका सर्वाधिक स्कोर अविजीत 49 रन है।

COMMENT