Birthday Special: प्रेम विवाह होने के बावजूद इस वजह से 32 सालों से अपनी पत्नी से अलग रह रहे हैं रणधीर कपूर

Views : 1801  |  3 min. read

आज अभिनेता-फिल्म निर्माता राज कपूर के बड़े बेटे और अभिनेता पृथ्वीराज कपूर के पोते रणधीर कपूर का जन्मदिन है। फैंस के बीच वे डब्बू के रूप में लोकप्रिय हैं। रणधीर का जन्म 15 फरवरी, 1947 को मुंबई में हुआ था। सिने पर्दे पर पहली बार बाल कलाकार के रूप में ‘श्री 420’ में दिखाई दिए। बतौर लीड एक्टर के रूप में उनकी पहली फिल्म ‘कल आज और कल’  थी, जो 1971 में रिलीज़ हुई थी।

जल्द ही, अभिनेता जीत, जवानी दीवानी जैसी फिल्मों का हिस्सा बनें और धीरे धीरे अपनी हिट फिल्मों के दम पर बॉलीवुड में एक अलग मुकाम हासिल किया। रणधीर का सीने सफर बड़ा हसीन रहा है। ना सिर्फ फिल्मों में अभिनय के जरिये बल्कि फिल्म निर्माता, निर्देशक के रूप में भी खूब नाम कमाया। रणधीर के 73 वें जन्मदिन पर एक नजर डालते हैं उनकी निजी जिदंगी पर।

रणधीर और बबीता की पहली मुलाकात

रणधीर ने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1971 में की थी और तब से 100 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया है।1969 में रणधीर ‘संगम’ के सेट पर अपने पिता राज कपूर के साथ जाया करते थे। बबिता भी वहां मौजूद रहतीं। इसी दौरान युवा रणधीर को बबीता से प्यार हो गया। उन्होंने सेट पर मिलना शुरू कर दिया, लेकिन दो साल के रिश्ते में, बबीता को चिंता होने लगी क्योंकि यह कपूर परिवार की परंपरा थी कि शादी के बाद कपूर परिवार की बहूंए फिल्मों में काम नहीं करेंगी। इसलिए, उसने रणधीर से कहा कि वह उससे शादी करे या उन्हें छोड़ दें।

राजकपूर ने रखी ये शर्त

रणधीर ने एक फिल्म के जरिए पिता राज कपूर को अपने और बबीता के प्यार के बारे में बता दिया, लेकिन शुरूआत में राज कपूर ने इस रिश्ते का विरोध किया। बबीता के लिए अपने बेटे के प्यार को महसूस करने के बाद राजकपूर ने इस रिश्ते के लिए राजी तो हुए मगर उन्होंने शर्त रखी कि बबिता को शादी के लिए अभिनय छोड़ना होगा।

शादी के बाद छोड़ा बबीता ने फिल्मों में काम करना

आखिरकार 6 नवंबर 1971 को रणधीर और बबीता ने कपूर निवास पर शादी कर ली। बबीता ने रणधीर  से शादी करने के लिए अभिनय छोड़ दिया। उस समय रणधीर का कॅरियर बहुत अच्छा चल रहा था और 1974 में, उनकी पहली संतान करिश्मा कपूर पैदा हुई। धीरे धीरे रणधीर के कॅरियर में गिरावट आने लगी और 1980 के दशक तक, उनकी कोई भी फिल्म बॉक्स-ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई।

फ्लॉप कॅरियर की वजह से शराब पीने लगे थे रणधीर

वर्ष 1981 में, रणधीर और बबीता के संबंधों पर वित्तीय संकट शुरू हो गया। 1980 के दशक के मध्य तक, रणधीर एक फ्लॉप हीरो के रूप में पहचाने जानें लगे। उस समय तक, उन्होंने अधिक शराब पीना शुरू कर दिया और फिल्मों में गंभीरता से लेना कम कर दिया। और आखिरकार 1987 में बबीता ने रणधीर से अलग होने का फैसला किया। यह खबर जंगल की आग की तरह फैल गई और मीडिया में खलबली मच गई।

जब रणधीर और बबीता अलग रहने लगे

1988 तक, रणधीर अपने माता-पिता के साथ रहने लग गये और बबीता अपने अपार्टमेंट में दोनों बच्चों करिश्मा और करीना के साथ रहने लगी। अब, अपनी असफल शादी पर दुखी होने के बजाय, वह अगले कुछ वर्षों तक मजबूत रही। बबीता ने करिश्मा और करीना की उनके कॅरियर को संवारने में मदद की इस दौरान उनके और रणधीर के बीच लगभग कोई संपर्क नहीं हुआ।

19 साल बाद फिर साथ आए

हालांकि, 2000 के दशक की शुरुआत में, उन्होंने थोड़े संपर्क के साथ शुरुआत की और अंततः 2007 में, 19 साल के अलगाव के बाद दोनों ने अपने मतभेदों को खत्म कर एक नये सिरे से नये रिश्ते की शुरुआत की।

भले ही वर्ष 2007 सुलह की उम्मीद के साथ आया, लेकिन 19 साल के अलगाव ने रणधीर और बबीता के व्यक्तित्व को पूरी तरह से बदल दिया था। वे अब अक्सर एक दूसरे से मिलते हैं। 2019 तक, रणधीर और बबीता को अलग हुए 32 साल हो चुके हैं।

इस कारण दोनों के रिश्ते में आई दूरी

बबीता के 70 वें जन्मदिन की पार्टी में मीडिया बातचीत में, रणधीर ने खुलासा किया था कि दोनों ने एक-दूसरे को तलाक क्यों नहीं दिया। उन्होनें मीडिया को बताया कि, “तलाक किसलिए? हमें तलाक क्यों चाहिए? मैं दोबारा शादी करने का इरादा नहीं करता, और न ही वह। उसने पाया कि मैं एक भयानक आदमी था, जो बहुत पीता था और देर से घर आता था, जो वह नहीं चाहती थी।  और मैं उस तरह से नहीं जीना चाहता था जिस तरह से वह चाहती थी, और वह मुझे वैसे ही स्वीकार नहीं कर सकती थी जैसा मैं हूं। हालांकि यह एक प्रेम विवाह था। तो ठीक है। हमारी देखभाल करने के लिए दो प्यारे बच्चे थे। उसने उन्हें बेहतरीन तरीके से पेश किया और उन्होंने अपने करियर में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। एक पिता के रूप में मैं और क्या माँग सकता था?”

COMMENT