बर्थ एनिवर्सरी: पैर छूने आते थे लोग, फिल्मों में मां का पर्याय बन गई थी निरुपा रॉय

Views : 1553  |  3 minutes read
Birth Anniversary Nirupa Roy

दिवंगत बॉलीवुड एक्ट्रेस निरुपा रॉय का जन्म 4 जनवरी 1931 को गुजरात के वलसाड जिले के कालवाड़ा में हुआ था। उनका बचपन का नाम कोकिला किशोरचंद्र बुलसरा था। निरुपा की शादी बहुत कम उम्र में करा दी गई थी। उनका मात्र 15 साल की उम्र में कमल रॉय से विवाह हो गया था। इसके बाद निरुपा पति के साथ मुंबई आकर बस गई थी। फिल्मों में कदम करने के बाद उन्होंने अपना कोकिला से नाम बदलकर निरुपा रॉय कर लिया था। 4 जनवरी को उनका जन्मदिन आता है। ऐसे में इस मौके पर जानते हैं उनके बारे में कुछ ख़ास बातें

Nirupa Roy

गुजराती फिल्म ‘गणसुंदरी’ से किया था डेब्यू

निरुपा रॉय के पति कमल रॉय मुम्बई में राशनिंग विभाग में काम करते थे। एक बार उनके पति ने एक विज्ञापन देखा, जिसमें लिखा था, ‘कलाकारों की जरूरत है’ बस, यहीं से निरुपा का एक्टिंग सफर शुरू हुआ। गुजराती फिल्म ‘गणसुंदरी’ से उन्होंने डेब्यू किया था। इसके बाद उन्होंने लगभग तीन सौ फिल्मों में काम किया।

40 से 50 के दशक के बीच निरुपा रॉय ने कई धार्मिक फिल्मों में काम किया। इनमें अक्सर वे देवी के रूप में नजर आती थीं। वे अपने इन किरदारों के कारण इतनी चर्चित हो गई थीं कि लोग उन्हें असल में देवी का रूप मानने लगे थे। इतना ही नहीं लोग उनके घर उनके दर्शन करने और पैर छूने भी पहुंच जाया करते थे।

पुण्यतिथि: आर डी बर्मन ने अमेरिकी बैंड के लिए दिया था ऐसा म्यूजिक, शायद ही आपने सुना होगा

भक्ति फिल्मों में माता का रूप निभाने के बाद वे बॉलीवुड में बाद में यूं तो कई​ फिल्मों में विभिन्न किरदार निभाए, लेकिन उनके मां किरदार को ही दर्शकों ने ज्यादा पसंद किया। निरुपा रॉय ने कई फिल्मों में मां का किरदार निभाया और फिल्मी मां की एक नई परिभाषा गढ़ी।

अमिताभ बच्चन की मां के किरदार के रूप में निरुपा ने कई फिल्में की। उन्हें अमिताभ की रील मां भी कहा जाने लगा था। साल 1999 में आई फिल्म ‘लाल बादशाह’ में यह दोनों आखिरी बार मां-बेटे के किरदार में नजर आए थे। निरुपा रॉय का 13 अक्टूबर 2004 को मुंबई में कार्डियक अरेस्ट से 73 वर्ष की उम्र में निधन हो गया था।

 

COMMENT