अशफाक उल्ला खां: ऐसा क्रांतिकारी जो हिंदू-मुस्लिम एकता के हिमायती थे

Views : 1083  |  0 minutes read

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में अपने जीवन को हंसते—हंसते मातृभूमि के लिए बलिदान करने वाले क्रांतिकारी अशफाक उल्ला खां की 19 दिसंबर को 92वीं पुण्यतिथि हैं। वह पण्डित रामप्रसाद बिस्मिल के परम मित्र थे। दोनों कवि थे। उन दोनों ने अंग्रेजी हुकूमत का खजाना लूटने के लिए ‘काकोरी काण्ड’ को अंजाम दिया था। इस काण्ड के बाद क्रांतिकारियों में देश की आजादी भावना तेजी से जगी। इन दोनों को एक ही दिन, एक ही समय पर फांसी दी गई, बस जेल अलग जगह थी। दोनों ही क्रांतिकारी वर्तमान युवा पीढ़ी के लिए धार्मिक एकता और साम्प्रदायिक सौहार्द्र के प्रतीक हैं।

जीवन परिचय

अशफाक उल्ला खां का जन्म 22 अक्टूबर, 1900 को उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले के शहीदगढ़ में हुआ था। उनके पिता मोहम्मद शफीक उल्ला खां और माता मजहूरुनिशा बेगम थे। उनका बचपन से ही पढ़ाई के प्रति रूझान कम था, वहीं उन्हें तैराकी, निशानेबाजी और घुड़सवारी में अधिक रुचि थी। उन्हें कवि​ता लिखने का शौक था। वह ‘हसरत’ उपनाम से कविताएं लिखते थे।

रामप्रसाद बिस्मिल से की दोस्ती

देश की आजादी में कई क्रांतिकारी मित्रों ने अटूट दोस्ती का परिचय दिया था। उनमें से एक थे रामप्रसाद बिस्मिल और अशफाक उल्ला। बिस्मिल मैनपुरी षड्यंत्र के मामले में शामिल थे, क्रांति के दौरान दोनों में दोस्ती हो गई। इन दोनों क्रांतिकारियों की दोस्ती हिंदू—मुस्लिम एकता का परिचायक बन गई। बिस्मिल अशफाक से पहली ही मुलाकात में बहुत प्रभावित हुए और उन्होंने उन्हें अपनी पार्टी ‘मातृवेदी’ का सक्रिय सदस्य बना लिया।

वर्ष 1922 में जब गांधी जी ने असहयोग आंदोलन वापस ले लिया तो क्रांतिकारियों के मन में निराशा छा गई। ऐसे समय में अशफाक उल्ला जैसे कई युवा क्रांतिकारी बन गए। उन्होंने वर्ष 1924 में हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन जैसे संगठन की ओर रुख किया। इस संघ का उद्देश्य भारत को अंग्रेजों की दासता से मुक्त कराने के लिए सशस्त्र क्रांति की आवश्यकता थी।

काकोरी रेल डकैती कांड

जब असहयोग आंदोलन के बाद देश में आजादी की चिंगारी शांत पड़ गई तो देश के क्रांतिकारियों ने सशस्त्र क्रांति करने का निश्चय किया। इस प्रकार क्रांतिकारियों को शस्त्रों के लिए धन की आवश्यकता महसूस हुई तो 9 अगस्त, 1925 को सहारनपुर-लखनऊ पैसेंजर ट्रेन काकोरी स्टेशन पर रामप्रसाद बिस्मिल के नेतृत्व में अशफाक उल्ला समेत 8 अन्य क्रांतिकारियों ने ट्रेन से खजाना लूटने की योजना बनाई। इस योजना के अनुसार क्रांतिकारियों ने सरकारी खजाना लूट लिया।

परंतु इसके बाद ब्रिटिश सरकार ने अशफाक और उनके साथियों को पकड़ने के लिए उनके पीछे पड़ गई। उनके कई साथी गिरफ्तार हो गए, लेकिन वह बच निकला। इसके बाद वह नेपाल, कानपुर, बनारस, बिहार आदि राज्यों में आजादी के लिए कार्य करते रहे। हालांकि उन्हें दिल्ली में गिरफ्तार कर लिया गया।

हिंदू—मुस्लिम एकता के हिमायती थे अशफाक उल्ला

आजादी के सपूत अशफाक उल्ला खां वर्तमान पीढ़ी के लिए प्रेरणास्रोत हैं। उन्होंने देश की आजादी के लिए अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया था। उन्हें कोई भी लोभ और जातीयता को आधार बनाकर इनको देश की आजादी के लिए अपनाए मार्ग से डिगा नहीं पाया। स्पेशल मजिस्ट्रेट ने उन्हें बहुत समझाने की कोशिश की और कहा कि रामप्रसाद बिस्मिल हिंदू राष्ट्र के लिए लड़ रहे हैं तुम मुसलमान होकर झांसे में कैसे आ गये। अशफाक ने कहा कि यह झूठ है कि रामप्रसाद बिस्मिल हिन्दू राज्य के लिए लड़ रहे हैं। यदि ऐसा है भी तो हिन्दू राज्य ब्रिटिश राज्य से अच्छा ही होगा।

अशफाक मानते थे कि मैं अकेला मुसलमान हूं इसलिए मेरी जिम्मेदारी बड़ी है। मैंने अगर कुछ गड़बड़ी की तो पूरे मुसलमान कौम पर धब्बा लग जायेगा। हजेला साहब 17 दिसम्बर, 1927 को फांसी से दो दिन पूर्व जेल की काल कोठरी में अशफाक उल्ला खां से मिलने गये। उनके साथ उनके भाई व भतीजे भी गये थे, वे रोने लगे। अशफाक उल्ला ने दोनों से कहा कि उनको खुश होना चाहिए। यह मौका रोने का नहीं है। हिन्दुओं में खुदीराम बोस तथा कन्हैयालाल अपने देश के लिये जान की बाजी लगा गये। मुसलमानों में मैं पहला खुशनसीब हूँ जो क्रांतिकारी षड्यंत्र के सिलसिले में फांसी पर चढ़ूंगा।

तीन क्रांतिकारियों को अलग—अलग जेल में 19 दिसंबर को दी गई फांसी

देश में महान क्रांतिकारियों में शामिल पं. रामप्रसाद बिस्लिम, अशफाक उल्ला खां और ठा. रोशन सिंह को 19 दिसम्बर, 1927 को फांसी की सजा दी गई। इन तीनों क्रांतिकारी ने देश की आजादी के खातिर हंसते-हंसते फांसी के फंदे को चूम लिया था। फांसी से एक दिन पूर्व अशफाक से जेल वालों ने उनकी अंतिम इच्छा जानना चाहा तो उन्होंने रेशम के कपड़े और अच्छा सा इत्र मांगा। जेल वालों ने इसकी व्यवस्था कर दी थी। अशफाक उल्लाह खां को फैजाबाद जेल में, रामप्रसाद बिस्मिल को गोरखपुर जिला जेल में और रोशन सिंह को इलाहाबाद जेल में फांसी दी गई।

COMMENT