‘हम जहां खड़े हो जाते है, लाइन वहीं से शुरू हो जाती है’ यहां पढ़े अमिताभ बच्चन के फेमस डायलॉग

Views : 2687  |  0 minutes read

“रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप लगते हैं, नाम है शहंशाह…।“ बॉलीवुड के शहंशाह से जाने वाले सदी के महानायक अमिताभ बच्चन को सिनेमा का सर्वोच्च पुरस्कार दादासाहेब फाल्के से सम्मानित किया गया है। अमिताभ पिछले 5 दशकों से फिल्म इंडस्ट्री में काम कर रहे हैं। उनकी रोबीली आवाज बॉलीवुड की जान है। जिसमें बोला गया हर एक डायलॉग लोगों को काफी पसंद आता है। इस खास मौके पर आइए एक नजर डाले उनकी बेहतरीन फिल्मों के मशहूर डायलॉग्स पर।

1.”रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप लगते हैं, नाम है शहंशाह”- शहंशाह

2.”डॉन को पकड़ना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है”- डॉन

3.”ये तुम्हारे बाप का घर नहीं, पुलिस स्टेशन है, इसलिए सीधी तरह खड़े रहो”- जंजीर

4.”पूरा नाम, विजय दिनानाथ चौहान, बाप का नाम, दीनानाथ चौहान, मां का नाम, सुहासिनी चौहान, गांव, मांडवा, उमर छत्तीस साल”- अग्निपथ

5.”आज मेरे पास बंगला है, गाड़ी है, बैंक बैलेंस है, क्या है तुम्हारे पास?”-दीवार

6.”मैं आज भी फेंके हुए पैसे नहीं उठाता”- दीवार

7.”अंग्रेजों के जमाने के जेलर, और इतनी घबराहट”- शोले

8.”गोवर्धन सेठ, समुंदर में तैरने वाले कुओं और तालाबों में डुबकी नहीं लगाया करते हैं”- शराबी

9.”पैसा क्या है, सिर्फ एक नंबर ना”- तीन पत्ती

10.”जिंदगी और शतरंज में यही तो फर्क है, जिंदगी में दूसरी मौका मिलता नहीं, यहां शतरंज में मिल जाता है”- वजीर

11.”जिंदगी का तंबू तीन बंबू पर खड़ा है”- शराबी

12.”मुझे जो सही लगता है मैं करता हूं, फिर चाहे वो भगवान के खिलाफ हो, कानून के खिलाफ हो या पूरे सिस्टम के खिलाफ”- सरकार

13.”अपनी शर्तों पर चलने वाले को कीमत चुकानी पड़ती है, मुझे जो सही लगता है वो मैं करता हूं”- सरकार राज

14.”परंपरा, प्रतिष्ठा, अनुशासन, ये इस गुरुकुल की तीन स्तंभ है, ये वो आदर्श है जिनसे हम आपका आने वाला कल बनाते हैं”- मोहब्बतें

15.”इस दुनिया में दो तरह का कीड़ा होता है, एक वो जो कचरे से उठता है, और दूसरा वो जो पाप की गंदगी से उठता है”- हम

16.”हम जहां खड़े हो जाते है, लाइन वहीं से शुरू हो जाती है”- कालिया

17.”है किसी मां के लाल में हिम्मत, जो मेरे सामने आए”- नमक हराम

18.”और वैसे ही, मैं इसको यहां नहीं मारुगां, वरना लोग कहेंगे सिकंदर ने अपने इलाके में उसे मारा”- मुकद्दर का सिकंदर

19.”हमारे यहां घड़ी की सुई कैरेक्टर डिसाइड करती है”- पिंक

20.”ये टेलीफोन भी अजीब चीज है, आदमी सोचता कुछ है, बोलता कुछ है और करता कुछ है”- अग्निपथ

21.”पैगार बढ़ाओ…पंद्रह सौ रुपये में घर नहीं चलता, साला ईमान क्या चलेगा?”- अग्निपथ

22.”हमारे देश में काम ढूंढना भी एक काम है”- शक्ति

23.”बड़ी हिम्मत चाहिए, विजय साहब, बड़ा हौंसला चाहिए इसके लिए, दाग दामन पे नहीं दिल पे लिया है मैने”- कभी कभी

24.”आपने जेल की दीवारों और जंजीरों का लोहा देखा है, जेलर साहब, कालिया की हिम्मत का फौलाद नहीं देखा”- कालिया

25.”ना शब्द एक शब्द नहीं, अपने आप में एक पूरा वाक्या है”- पिंक

26.”सही बात को सही वक्त पर किया जाए तो उसका मजा ही कुछ और है, और मैं सही वक्त का इंतजार कर रहा हूं।”–त्रिशूल

27.”खेल खेल में, खेल खेल के, खेल खेल ये आ जाएगा…हार जीत से, हार जीत के, जीत हारना सिखाएगा”…खेल खेल में- वजीर

COMMENT