पटरी पर बैठकर अपनी ‘जिंदगी’ पर बात कर रहे थे 4 दोस्त, फिर बोले मरना है और कूद गए ट्रेन के आगे

Views : 2688  |  0 minutes read

बेरोजगारी की क्या इंतेहा हो चली है इसका अंदाजा राजस्थान के अलवर में हुई एक घटना से लगाया जा सकता है। यहां 4 बेरोजगार दोस्तों ने पटरियों पर बैठकर अपनी जिंदगी के बारे में बात करते करते अचानक मरने का फैसला ले लिया और ट्रेन के आगे कूद गए। घटना राजस्थान के अलवर जिले की है जहां शांति कुंज इलाके से गुजरने वाले जयपुर-दिल्ली रेलवे ट्रैक पर बुधवार शाम को 6 दोस्तों ने सामुहिक आत्महत्या करने का प्लान बना लिया। 6 दोस्तों में से दो दोस्त तो डर के मारे पीछे हट गए लेकिन 4 दोस्त ट्रेन के आगे कूद गए जिनमें से 3 की मौत हो चुकी है जबकि एक गंभीर रूप से घायल है।

यूं हुआ पूरा घटनाक्रम

चारों दोस्त अलवर के राजगढ़ तहसील के रैणी गांव के रहने वाले थे जिनमें से मनोज मीणा (24) सत्यनारायण मीणा (22) व रितुराज मीणा की मौत हो गई वहीं चौथा दोस्त अभिषेक मीणा की हालत गंभीर है। डर के मारे  ट्रेन के आगे नहीं कूदे दो दोस्त राहुल और संतोष मीणा ने पुलिस को बताया कि सभी 6 दोस्त राजगढ़ से अलवर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए कमरा किराए से लेकर रह रहे थे। बुधवार शाम को करीब साढ़े 6 बजे के आसपास राहुल के पास मृतक सत्यनारायण का फोन आया और उसने उसे शांतिकुंज रेलवे ट्रैक पर आने के लिए कहा। राहुल शांतिकुंज रेलवे ट्रैक पर पहुंचे तो वहां पहले से ही सत्यनारायण, संतोष, अभिषेक, ऋतुराज और मनोज रेलवे ट्रैक पर बैठकर सिगरेट पी रहे थे। इसके बाद सत्यनारायण ने राहुल से कहा कि हम सब बेरोजगारी और जिंदगी से परेशान हो चुके हैं और हमनें ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान देने का फैसला कर लिया है।

मजाक समझ रहा था राहुल समझाया भी लेकिन नहीं माने

इस घटना में जिंदा बचे राहुल ने पुलिस को बताया कि पहले तो उसे उसके दोस्तों की बातें मजाक लग रही थी जिसके बाद उसने उन्हें खूब समझाया भी था। राहुल ने बताया कि सब लोग उसे भी ये कदम उठाने के लिए उकसा रहे थे और राहुल उन्हें ट्रैक से दूर ले जाने में भी कामयाब हुआ था लेकिन वो फिर से ट्रैक के पास आ गए। अचानक ट्रेन के दूर से दिखते ही पांचों दोस्त अपने परिजनों से फोन पर बात करने लगे ट्रेन नजदीक आने के बाद 4 दोस्त तो ट्रेन के आगे कूद गए मगर संतोष डर के मारे पीछे हट गया वहीं राहुल ने तो पहले ही पीछे हटने का फैसला कर लिया था। ट्रेन से टकराने के बाद तीन दोस्तों के तो चीथड़े उड़ चुके थे और ट्रैक से 50 मीटर की दूरी पर जा गिरे थे वहीं अभिषेक को घायल अवस्था में अस्पताल पहुंचाया गया।

 

सत्यनारायण ने फेसबुक पर डाला था हत्या पर फिल्माया गया वीडियो

घटना की जांच में जुटी पुलिस ने सत्यनारायण की फेसबुक आईडी चैक की तो उसमें देखा गया कि घटना से एक दिन पहले एक फिल्मी स्टाइल का वीडियो डाला हुआ है जिसमें एक युवक कार से दूसरे को कुचल देता है। पुलिस इस वीडियो को घटना से जोड़ कर भी देख रही है। वहीं जिंदा बचे राहुल और संतोष से पूछताछ कर रही है।

ना हमसे खेती होगी ना हम पढ़ाई में अच्छे हैं तो जी कर क्या करेंगे

घटना के चश्मदीद गवाह राहुल ने पुलिस को बताया कि सत्यनारायण से जब उसने आत्महत्या करने की वजह पूछी तो उसने कहा कि हमारी नौकरी लग नहीं पाएगी और खेतीबाड़ी हमसे होगी नहीं इसलिए अब जी कर क्या करेंगे।

COMMENT