क्या होती है VVPAT ? विधानसभा चुनावों में इससे ही देना है वोट

Views : 2225  |  0 minutes read

देश में तीन राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव नजदीक हैं। ऐसे में चुनाव आयोग ने तैयारियां पूरी कर ली है। जैसा कि हम सभी जानते हैं चुनाव प्रक्रिया में पारदर्शिता को लेकर पिछले कुछ समय से चुनाव आयोग और ईवीएम मशीन पर सवालिया निशान लग रहे हैं।

इस बार विधानसभा चुनावों में धांधली की आशंकाओं को रोकने के लिए चुनाव आयोग एक खास पहल शुरू करेगा। इस पहल में ईवीएम मशीन के साथ एक खास तरह की मशीन VVPAT भी इस्तेमाल होगी। एक आम मतदाता को ईवीएम से वोटिंग करने में भी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है ऐसे में इस बार एक और नई मशीन साथ रहेंगी। चलिए आपको समझाते हैं कैसे होती है VVPAT से वोटिंग।

क्य़ा होती है VVPAT ?

वोटर वेरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) इसका पूरा नाम है। इस मशीन को ईवीएम (जिससे वोट डाला जाता है) के साथ जोड़ा जाता है। जब कोई भी मतदाता ईवीएम से अपना वोट डालता है तो वीवीपीएटी में उस प्रत्याशी का नाम भी दिखाई देता है जिसको उसने वोट दिया है। जब ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की आशंका होती है तो इस मशीन का इस्तेमाल किया जाता है।

कैसे काम करती है VVPAT ?

वोट देने के लिए जैसे ही हम ईवीएम मशीन पर उम्मीदवार के सामने बटन दबाते हैं तो बटन दबाए जाने के बाद, वीवीपीएटी मशीन से जिसको आपने वोट दिया है उसका नाम और चुनाव चिह्न वाली एक पर्ची सामने आती है और 7 सैकेंड बाद सीलबंद बॉक्स में गिर जाती है। मशीन को ग्लास के एक ऐसे केस में इस तरह से रखा जाता है कि केवल वोटर ही इसे देख सकें।

हालांकि गौरतलब है कि पिछले कुछ समय से कई विपक्षी पार्टियां चुनाव आयोग और सत्ताधारी पार्टियों पर ईवीएम मशीन में धांधली करने के आरोप लग रहे हैं।

COMMENT