बर्थडे: प्रणब मुखर्जी के बारे में वो बातें जो आपको जानने की जरूरत है!

Views : 1023  |  0 minutes read
Pranab-Mukherjee

11 दिसंबर 1935 को पैदा हुए प्रणब कुमार मुखर्जी एक भारतीय राजनेता हैं जिन्होंने 2012 से 2017 तक भारत के 13 वें राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। राष्ट्रपति के रूप में उनके चुनाव से पहले, मुखर्जी 2009 से 2012 तक केंद्रीय वित्त मंत्री थे और कांग्रेस पार्टी दिग्गज सलाहकारों में से एक थे।

शिक्षा

मुखर्जी ने स्नातक स्तर की पढ़ाई, राजनीति विज्ञान और इतिहास में परास्नातक और कलकत्ता विश्वविद्यालय से एलएलबी की पढ़ाई की थी।

कॅरियर की शुरुआत

Pranab-Mukherjee
Pranab-Mukherjee

मुखर्जी अपनी राजनीतिक यात्रा शुरू करने से पहले, कलकत्ता में उप लेखाकार जनरल (पोस्ट और टेलीग्राफ) के कार्यालय में एक ऊपरी-डिवीजन क्लर्क थे। 1963 में वह विद्यानगर कॉलेज में राजनीति विज्ञान के एक व्याख्याता बन गए और देशर डाक के साथ एक पत्रकार के रूप में भी काम किया।

प्रणव मुखर्जी के बारे में आपको ये 15 बातें पता होना चाहिए

1. प्रणव के पिता, कामदा किन्कर मुखर्जी, भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय थे और 1952 और 1964 के बीच भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रतिनिधि के रूप में पश्चिम बंगाल विधान परिषद के सदस्य थे।

2. प्रणब काफी ज्यादा किताबें पढ़ते हैं और बागवानी और संगीत भी उनको बहुत पसंद है।

3. मुखर्जी को 1969 में राजनीति में अपना ब्रेक मिला जब प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी ने उन्हें कांग्रेससभा राज्यसभा में चुने जाने में मदद की।

4. वे इंदिरा गांधी के सबसे भरोसेमंद लेफ्टिनेंटों में से एक बन गए और 1973 तक उनके कैबिनेट में मंत्री बने।

5. 1975-77 के विवादास्पद आपातकाल के दौरान बाकी कांग्रेस लीडर्स की तरह ही प्रणब मुखर्जी को भी आरोपों का सामना करना पड़ा था।

pranab-mukherjee

6. मुखर्जी ने कई मंत्रीमंडलों में रहे और 1982 में वित्त मंत्री के रूप में अपना पहला कार्यकाल पूरा किया।

7. मुखर्जी 1980 से 1985 तक राज्य सभा में सदन के नेता भी थे।

8. मुखर्जी खुद को इंदिरा के लिए सही उत्तराधिकारी मानते थे लेकिन राजीव गांधी से हार गए जिसके बाद उन्होंने अपनी पार्टी, राष्ट्रीय समाजवादी कांग्रेस का गठन किया जो राजीव गांधी के साथ सर्वसम्मति से के बाद 1989 में कांग्रेस के साथ विलय हो गई।

9. 1991 में राजीव गांधी की हत्या के बाद मुखर्जी के राजनीतिक करियर को पुनर्जीवित किया गया जब प्रधान मंत्री पी वी नरसिम्हा राव ने उन्हें 1991 में योजना आयोग के प्रमुख और 1995 में विदेश मंत्री नियुक्त किया।

10. इसके बाद कांग्रेस के बड़े राजनेता के रूप में मुखर्जी 1998 में पार्टी के अध्यक्ष पद पर सोनिया गांधी के उत्थान के प्रमुख थे।

11. सोनिया गांधी के राजनीति में शामिल होने के बाद मुखर्जी उनके सलाहकारों में से एक थे। कठिन परिस्थितियों में मुखर्जी ने सोनिया का साथ दिया और बताया कि इंदिरा गांधी कैसे शासन किया करती थीं।

12. मुखर्जी को 2011 में “बेस्ट एडमिनिस्ट्रेटर” का पुरस्कार मिला।

pranab-mukherjee
pranab-mukherjee

13. जब 2004 में कांग्रेस के नेतृत्व वाले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सत्ता में आई तो मुखर्जी ने पहली बार लोकसभा सीट जीती और 2012 तक रक्षा, विदेश मामलों और वित्त जैसे कई महत्वपूर्ण कैबिनेट प्रोफाइल हासिल किए।

14. जुलाई 2012 में देश के राष्ट्रपति पद के लिए यूपीए द्वारा नामांकन सुरक्षित करने के बाद, मुखर्जी ने चुनावी वोट का 70 प्रतिशत जीतकर पी ए संगमा को आराम से हरा दिया।

15. जब 25 जुलाई, 2017 को उनकी अवधि समाप्त हो गई तो मुखर्जी ने “बुढ़ापे से संबंधित स्वास्थ्य जटिलताओं” के कारण राष्ट्रपति पद छोड़ने के बाद फिर से चुनाव न लड़ने और राजनीति से रिटयर होने का फैसला किया।

COMMENT