पुण्यतिथि विशेष: सुचित्रा सेन भारतीय सिनेमा की पहली ऐसी अभिनेत्री जिसे विदेश में मिला ये सम्मान…

Views : 1441  |  5 min read

भारतीय सिनेमा में अभिनेत्री सुचित्रा सेन का कोई सानी नहीं। उन्हें पहली ऐसी अभिनेत्री के रूप में देखा जाता है जिन्होंने अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अपना एक मुकाम हासिल किया। करीब छ: साल पहले आज ही के दिन 17 जनवरी को सुचित्रा का कोलकाता में निधन हो गया था। पुण्यतिथि के मौके पर आइए इस अभिनेत्री को थोड़ा करीब से जानें।

सुचित्रा का जन्म  06 अप्रैल 1931 को पवना में हुआ था जो बांग्लादेश में पड़ता है। उनका वास्तविक नाम रोमा दासगुप्ता था। उनके पिता करूणोमय दासगुप्ता स्कूल में हेड मास्टर थे। सुचित्रा अपने माता पिता की पांच संतानों में तीसरी संतान थी। सुचित्रा की प्रारंभिक शिक्षा पवना से हुई। पढ़ाई पूरी होने के बाद 17 साल की उम्र में उनका विवाह बंगाल के जाने माने उद्योगपति अदिनाथ सेन के पुत्र दीबानाथ सेन से हुआ।

शादी के बाद ली फिल्मों में एंट्री

सुचित्रा ने उस दौर में खुले विचार रखने वाले परिवार में जन्म लिया और शादी भी ऐसे ही परिवार में हुई। यही वजह रही कि शादी के बाद सुचित्रा के फिल्मों में काम करने पर किसी को आपत्ति नहीं हुई। उन्होंने साल 1952 में बांग्ला फिल्म सारे चतुर से डेब्यू किया। इस फिल्म में सुचित्रा अभिनेता उत्तम कुमार के साथ स्क्रीन साझा किया।

बॉलीवुड में ‘पारो’ के किरदार से जीता सभी का दिल

बंगाली सिनेमा में पहचान बनाने के बाद सुचित्रा ने बॉलीवुड की तरफ रुख किया। साल 1955 में शरत चंद्र के मशहूर बंगला उपन्यास ‘देवदास’ पर बनी फिल्म से डेब्यू किया। विमल राय के निर्देशन में बनी इस फिल्म में उन्हें पहली बार दिलीप कुमार के साथ काम करने का अवसर मिला। फिल्म में सुचित्रा ने पारो के किरदार के जरिये दर्शकों का दिल जीतने में कामयाब रही। इसी के साथ उन्होंने अपनी बॉलीवुड पारी की शुरुआत की। उन्होंने बॉलीवुड में  मुसाफिर, बंबई का बाबू,आंधी जैसी बेहतरीन फिल्में की।

इस फिल्म के जरिए मिली अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति

साल 1963 में ही सुचित्रा की फिल्म ‘सात पाके बांधा’ रिलीज हुई। फिल्म में उनके संजीदा किरदार ने एक बार फिर दर्शकों का दिल जीत लिया। इस फिल्म के लिए उन्हे मास्को फिल्म फेस्टिवल में बेस्ट फिल्म एक्ट्रेस के अवॉर्ड से नवाजा गया। बता दें कि यह फिल्म जगत के इतिहास में पहली बार था जब किसी भारतीय अभिनेत्री को विदेश में पुरस्कार मिला।

 

COMMENT