पाठक है तो खबर है। बिना आपके हम कुछ नहीं। आप हमारी खबरों से यूं ही जुड़े रहें और हमें प्रोत्साहित करते रहें। आज 10 हजार लोग हमसें जुड़ चुके हैं। मंजिल अभी आगे है, पाठकों को चलता पुर्जा टीम की ओर से कोटि-कोटि धन्यवाद।

70 साल के हुए नसीरुद्दीन मगर इनका ‘दिल तो बच्चा है जी’

4 read

बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर और निर्देशक नसीरुद्दीन शाह आज अपना 70वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं। शाह ने अपनी बेहतर एक्टिंग की बदौलत कॅरियर में कई पुरस्कार जीते हैं, जिसमें तीन राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, तीन फिल्मफेयर पुरस्कार और वेनिस फिल्म महोत्सव पुरस्कार शामिल है। हिन्दी सिनेमा में उनके योगदान के लिए भारत सरकार ने उन्हें पद्म श्री और पद्म भूषण पुरस्कारों से सम्मानित किया है।

एक्टर नसीरुद्दीन शाह का जन्म 20 जुलाई, 1949 को उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में हुआ था। उनका परिवार मूल रूप से मेरठ से बाराबंकी आया था। उनके पिता एले मोहम्मद शाह और मां फारुख सुल्तान थी।

उनकी स्कूली शिक्षा अजमेर के सेंट एंसलम और नैनीताल के सेंट जोसेफ कॉलेज में हुई। वर्ष 1971 में उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से कला में स्नातक किया और दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में दाखिला लिया।

वैवाहिक जीवन

नसीरुद्दीन शाह जब 20 वर्ष के थे तब उन्होंने पहली शादी अपने से 15 साल बड़ी मनारा सीकरी से की थी। मनारा को परवीना मुराद के नाम से भी जाना जाता था। इस शादी से नसीरुद्दीन के परिवार वाले खुश नहीं थे। मनारा ने एक बेटी को जन्म दिया जिसका नाम हीबा शाह रखा।

नसीरुद्दीन शाह ने दूसरी शादी रत्‍ना पाठक से की। उनकी मुलाकात एक थियेटर में नाटक के दौरान हुई थी। पहली ही मुलाकात में दोनों को एक—दूसरे को पसंद करने लगे थे। दोनों ने कई फिल्‍मों में साथ काम किया जिससे वे ओर करीब आ गए और बाद में वर्ष 1982 में दोनों ने शादी कर ली। इनके दो बेटे हुए, जिनके नाम इमाद और विवान है।

हिंदी सिनेमा में कॅरियर

नसीरुद्दीन शाह ने वर्ष 1980 से हिंदी फिल्मों में अपने कॅरियर की शुरुआत की और उनकी पहली फिल्म ‘हम पांच’ थी। वर्ष 1982 में इस्माइल श्रॉफ की फिल्म ‘दिल आखिर दिल है’ में एक्टिंग की। वर्ष 1983 में उनकी फिल्म मासूम रिलीज हुई जो सफल रही।

वर्ष 1986 में आई फिल्म ‘कर्मा’ बहुत हिट रही जिसमें नसीरुद्दीन शाह भी थे। यह मल्टी- स्टारर फिल्म थी, जिसमें दिलीप कुमार भी थे। इसके बाद उन्होंने इज्जत (1987), जलवा (1988) और हीरो हीरालाल (1989) जैसी फिल्मों के लिए भूमिकाएं निभाईं।

उन्होंने कई मल्टी स्टार बॉलीवुड फिल्मों में शानदार अभिनय किया है, जैसे कि गुलामी (1985), त्रिदेव (1989) और विश्वात्मा (1992)। वर्ष 1994 में रिलीज हुई मोहरा में उन्होंने खलनायक के रूप में काम किया।

उन्होंने 2003 में विशाल भारद्वाज की शेक्सपियर के ‘मैकबेथ’ पर बनाई हिन्दी फिल्म ‘मकबूल’ में अभिनय किया था। नसीरुद्दीन ने ओर भी कई फिल्मों जैसे ‘ए वेडनेसडे’, ‘इश्किया’ और ‘फाइडिंग फैनी’ में अपने शानदार अभिनय से सभी को प्रभावित कर चुके हैं। उन्होंने एक कॉमेडियन, एक लीड एक्टर, एक विलेन और सपोर्टिव रोल में भी बखूबी काम किया है। वर्ष 2011 में शाह ने ‘द डर्टी पिक्चर’ में काम किया था। जो एक सुपरहिट फिल्म साबित हुई।

COMMENT

Chaltapurza.com, एक ऐसा न्यूज़ पोर्टल जो सबसे पहले, सबसे सटीक की भागमभाग के बीच कुछ अलग पढ़ने का चस्का रखने वालों का पूरा खयाल रखता है। हम देश-विदेश से लेकर राजनीतिक हलचल, कारोबार से लेकर हर खेल तो लाइफस्टाइल, सेहत, रिश्ते, रोचक इतिहास, टेक ज्ञान की सभी हटके खबरों पर पैनी नजर रखने की कोशिश करते हैं। इसके साथ ही आपसे जुड़ी हर बात पर हमारी “चलता ओपिनियन” है तो जिंदगी की कशमकश को समझने के लिए ‘लव यू जिंदगी’ भी कुछ अलग है। हमारी टीम का उद्देश्य आप तक अच्छी और सही खबरें पहुंचाना है। सबसे अच्छी बात यह है कि हमारे इस प्रयास को निरंतर आप लोगों का प्यार मिल रहा है…।

Copyright © 2018 Chalta Purza, All rights Reserved.